संपादकीय

editorial

INN Bharat संपादकीय

महागठबंधन में दरारः अखिलेश यादव से सीखे कांग्रेस

यूपी के लोकसभा उप चुनावों में सपा और बसपा का चुनावी तालमेल ना केवल आम आदमी बल्कि राजनीतिक गलियारों में भी किसी अजूबे से कम नही था। परंतु सपा और बसपा ने समय की जरूरत समझते हुए इस कारनामे को अंजाम देकर दिखाया। इसके बाद भी सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव […]

संपादकीय

असंतुष्ट किसानों की वापसी मोदी के जाने की तैयारी

किसान क्रान्ति यात्रा का दिल्ली सीमा पर जमावडा खत्म हुआ। परंतु दिल्ली से असंतुष्ट किसानों की वापसी मोदी सरकार की वापसी की पटकथा लिख गयी है। किसानों की मांगों में से सात पर सरकार की तथाकथित सहमति से असहमति जताकर और अपने संघर्ष को जारी रखने का ऐलान करके किसानों […]

संपादकीय

संघ-भाजपा की हार की आहट और माफीनामों का इतिहास

आईएनएन भारत डेस्क आरएसएस द्वारा विज्ञान भवन में आयोजित संवाद सम्मेलन में जिस प्रकार से संघ ने अपनी छवि सुधारने की मुहिम की शुरूआत करते हुए झूठ का अंबार लगाया उससे साफ जाहिर है कि संघ-भाजपा आगमी लोकसभा चुनाव 2019 में अपनी हार की आहट से डरे हुए हैं। हालांकि […]

संपादकीय

संवैधानिक संस्थाओं के फैसलों में सुनाई दे रही है मोदी की हार की आहट

आरबीआई से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक मौजूदा दौर में भारतीय लोकतंत्र की संवैधानिक संस्थाओं ने जो रूख दिखाया है उससे मौजूदा मोदी सरकार की खासी किरकिरी हुई है। इन निर्णयों को देखकर कहा जा सकता है कि यह संस्थान अब समझ चुके हैं कि मोदी सरकार की उल्टी गिनती शुरू […]

संपादकीय

यह अघोषित आपातकाल की घोषणा की कार्रवाई है

भगवा सरकार का अर्बन नक्सल विरोध अभियान शुरू हो गया है। समाज में ऐसे लोग जिनकी आवाज समाज के बड़े हिस्से को प्रभावित करती है और कारपोरेट पूंजी की खुली लूट को वैध करने की सरकार की तथाकथित विकास की अवधारणा का विरोध करती हैं, उन आवाजों को खामोश करने […]

संपादकीय

अटल बिहारी वाजपेयी की मौत ने उजागर किया मोदी के हिंसक ‘राजधर्म‘ का चेहरा

देश में भीड़ हिंसा के फासीवादी रूझान की जन्मस्थली को वैसे तो देश के सभी जागरूक लोग जानते और पहचाानते है, परंतु पूर्व प्रधानमंत्री वाजपेयी की मौत ने इस हिंसक भीड़ के चहरे की पहचान और उसका पता साफ कर दिया है। सभी जानते हैं कि यह हिंसक भीड़ ब्राहमणवादी […]

संपादकीय

वाजपेयी को महान बताना ब्राह्मणवाद की गुलामी, ब्राह्मणवाद की पालकी ढ़ोना है

ब्राह्मणावद किस तरह से हमारे समाज और जीवन के मानक तय करता है लोकप्रिय मुहावरे गढ़ता है, यह वाजपेयी की मौत ने दिखा दिया है। अटल बिहारी वाजपेयी के जीवन की देश के सबसे महत्वपूर्ण राजनीतिक पद पर पहुंचने से ज्यादा कोई उपब्धि नही है बल्कि उनके कर्मो की सूची […]

संपादकीय

वापस नही होगा 9 अगस्त का भारत बंद, बढ़ेंगी भाजपा की मुश्किलें

मोदी सरकार और मोदी की केबिनेट ने एससी/एसटी एक्ट को फिर से पुराने स्वरूप में लाने को मंजूरी दे दी है। इसे दलित सहयोगी पार्टियों के 9 अगस्त के भारत बंद में शामिल होने की धमकियों के मद्देनजर भाजपा सरकार की बचाव की रणनीति के रूप में देखा जा रहा […]

संपादकीय

एनडीए की टूट की पटकथा तैयार कर रहा बिहार?

बिहार में एनडीए की मुश्किलें थमने का नाम नही ले रही हैं। अभी नीतीश से मुलाकात के बाद अमित शाह ने जोर से शोर से घोषणा की थी कि सभी कुछ ठीक है और अपने चिर परिचित दादागिरी स्टाईल में विपक्ष को कहा था कि नीतीश के लिए लार ना […]

संपादकीय

राजनाथ सिंह के भाषण ने दिया हत्यारी भीड़ को समर्थन का कुतर्क

देश के गृहमंत्री ने अविश्वास प्रस्ताव पर बोलते हुए मोब लिंचिंग पर सख्त कार्रवाई करने की बात कही और हमेशा की तरह जुमला छोड़ा कोई बख्शा नही जायेगा। वहीं दूसरी तरफ अलवर जिले में जहां पिछले साल पहलू खान का कत्ल हुआ था उसी जिले में अब अकबर की माब […]