संपादकीय

editorial

संपादकीय

कर्नाटक में एक हारी हुई लड़ाई लड़ रही है भाजपा

कर्नाटक में जैसे जैसे मतदान का दिन करीब आ रहा है चुनावी गर्मी और नेताओं की बयानबाजी लगातार तेज हो रही है। पूरे चुनाव प्रचार का सबसे दुखद पहलू इसमें नेताओं द्वारा लगातार किये जा रहे निम्न स्तर के आरोप प्रत्यारोप है। परंतु इस स्तरहीन बयानबाजी का सबसे अफसोस जनक […]

संपादकीय

मोदी का कमजोर इतिहास ज्ञान कर्नाटक में भाजपा को कर रहा है फायदा

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अपनी पार्टी भाजपा और उसके मातृ संगठन में बड़े भाषणबाज नेता माने जाते हैं परंतु जिस प्रकार का इतिहास बोध उनके भाषणों से झलकता है वह प्रधानमंत्री पद की गरिमा को तार तार करने वाला है। ऐसा भी नही कि उनका यह इतिहास बोध कोई एक या […]

संपादकीय

भारतीय राजनीति के पाखंडवाद का शिकार है माकपाई राजनीतिक पाखंड

भारतीय राजनीति लगातार झूठ और पाखंड का शिकार होती जाउ रही है। पहले वामपंथी दलों से कुछ नैतिकता और सरलता और साफगोई की उम्मीद की जा सकती थी परंतु मौजूदा दौर में वामपंथी दल भी उसी चालू राजनीतिक पाखंड का शिकार हो गये लगते हैं। हाल ही में हैदराबाद में […]

संपादकीय

मोदी सरकार के बैंकिंग सुधारों ने पैदा किया करेंसी संकट, अर्थव्यवस्था गहरे संकट में

हिंदी भाषी क्षेत्रों विशेषकर पश्चिमी उत्तर प्रदेश और हरियाणा में एक कहावत मशहूर है ‘‘जिसका काम उसी को साझे, और करे तो जूता बाजे‘‘। मोदी सरकार के वित्त मंत्री अरूण जेटली ने जब से वित्त मंत्रालय संभाला है वह रोजाना इसी कहावत को चरितार्थ करते नजर आते हैं। वो देश […]

संपादकीय

खलनायकों, शैतानों के नायक बन जाने की राजनीति

निर्भया काण्ड़ पर जिस तरह से पूरा देश आंदोलन में उतरा दिखाई पड़ रहा था और जो आवाजें अपराधियों के खिलाफ उठ रही थी, उन आवाजों ने महिलाओं की सुरक्षा के सवाल पर पूरे देश में एक उम्मीद सी पैदा की थी। परंतु कठुआ की आठ साल की मासूम आसिफा […]

Featured संपादकीय

एससी/एसटी कानून में बदलाव, पुनर्विचार याचिका और राजभर का बयान बड़ी संघी साजिश

आईएनएन भारत डेस्क: देश में ब्राहमणवाद के पोषक और नेतृत्वकारी संगठन आरएसएस और भाजपा ने अपने जाने पहचाने अंदाज में एक नई चाल चल दी है।  एससी/एसटी कानून पर बनी बहुजन एकता से घबराये संघी टोले ने पिछड़ा वर्ग से आने वाले पूर्वी उत्तर प्रदेश में राजभरों के नेता होने […]

संपादकीय

सुशासन नही, दुःशासन बाबू, नीतीश कुमार

कभी वह बिहार के नायक और धर्मनिरपेक्ष ताकतों में प्रधानमंत्री पद के सबसे प्रबल दावेदार होते थे, परंतु देश की राजनीति के वही सुशासन बाबू आज बिहार के दुःशासन बनकर उभरे हैं। महाभारत के दुःशासन ने भाई के साथ मिलकर सत्ता की खातिर परिवार को बांट दिया था तो बिहार […]

संपादकीय

शिक्षा और लोकतंत्र पर हमले के खिलाफ जेएनयू का ऐतिहासिक संसद मार्च

वो फिर से सड़कों पर हैं, ढ़पली बजाते, नाचते गाते, नारे लगाते और नारों को गीत और गीतों को नारे बनाते। वो बताने आ रहे हैं समाज विकास में विरोधाभासों की अनिवार्यता को, वो बतायेंगे कि असहमतियों का दर्ज होेते रहना ही लोकतंत्र के जीवन का मूल है, उसकी जिंदगी […]

संपादकीय

तीसरे मोर्चे की तेज होती कवायद भाजपाई रणनीति

काफी समय से केवल चर्चाओं में रह रही तीसरे मोर्चे के गठन की राजनीति ने यूपी उप चुनावों के बाद अचानक रफ्तार पकड़ ली है। दक्षिण में चन्द्रबाबू नायडू से लेकर चन्द्रशेखर राव और पूर्व में ममता बनर्जी से लेकर चन्द्र बाबू का समर्थन करने वाले नीतीश कुमार तक प्रत्यक्ष […]

संपादकीय

योगी के बौखलाये बोल लोकतंत्र विरोधी भाजपा का रंग

आईएनएन भारत: यूपी उप चुनाव में भाजपा की हार के बड़े राजनीतिक संकेत हैं तो वहीं योगी के लगातार जारी बेतुके बोल योगी और उनकी पार्टी की अलोकतान्त्रिक और ब्राहमणवादी निरंकुशता का प्रतीक हैं। जहां चुनावों से पहले योगी ने सपा-बसपा के गठजोड़ को सांप-छंछून्दर का गठजोड़ कहा तो वह […]