आलेख

documents

आलेख

मोदी और शाह पर राहुल के हमलों से बौखलाया गोदी मीड़िया

महेश राठी कर्नाटक में येदियुरप्पा के इस्तीफा देने और भाजपा सरकार गिर जाने के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने नई दिल्ली में एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और अमित शाह पर जमकर हमला किया। मोदी और शाह के बारे में कहना मुश्किल है कि […]

INN Bharat आलेख

कर्नाटक के बाद भी विपक्ष सुप्तावस्था में, कांग्रेस को क्षेत्रीय दलों को आगे रखकर व्यापक एकता बनानी होगी

संजय यादव प्रत्येक चुनाव में हारने और जीतने वाले दोनों के लिए निश्चित ही कुछ संदेश होते हैं। और कर्नाटक चुनावों के भी विपक्षी दलों के लिए एक साफ संदेश है। चाहे आपके पास चुनाव पूर्व और चुनाव के बाद के गठबंधन के रूप में महत्वपूर्ण बहुमत हो तो भी […]

आलेख

जिन्ना, सावरकर और श्यामा प्रसाद मुखर्जी की इस दोस्ती को क्या नाम दें

महेश राठी श्यामा प्रसाद मुखर्जी और मोहम्मद अली जिन्ना भारतीय इतिहास के ऐसे दो नाम हैं जिनमें आजादी से पहले स्पर्धा कम और दोस्ती ज्यादा दिखाई देती है और आजादी के बाद भगवा राजनीतिक दोनों को एक दूसरे का दुश्मन बनाकर पेश करती है। असल में आजादी से पहले दोनों के […]

आलेख

रामराज्य और समाजवाद

डा. गिरीश उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा बजट भाषण पर चर्चा के दौरान विधान परिषद् में “समाजवाद” को लेकर दिए गये वक्तव्य ने एक नई बहस को जन्म दे दिया है। हो सकता है कि बड़बोले श्री आदित्यनाथ ने यह बातें समाजवादी पार्टी के नाम में विहित समाजवाद […]

आलेख विमर्श

सांप्रदायिक दंगे और उनका इलाज

भगत सिंह (संप्रदायिकता की समस्या पर शहीदे आजम भगत सिंह का यह आलेख जून 1928 में किरती नामक पत्र में छपा था, जिसके लिए भगत सिंह उस वक्त लिखते थे।) भारतवर्ष की दशा इस समय बड़ी दयनीय है। एक धर्म के अनुयायी दूसरे धर्म के अनुयायियों के जानी दुश्मन हैं। […]

आलेख विमर्श

श्यामा प्रसाद मुखर्जी और लेनिन, अंबेडकर, पेरियार के टकराव का निर्णायक शंखनाद

By महेश राठी भगवा ब्रिगेड भारतीय समाज में विचारों के टकराव की नई इबारत लिख रही है। भारतीय समाज अभी तक मूर्तियों की स्थापना में विचारों के टकराव की आहट सुनता आया था परंतु अब वह मूर्तियों के विध्वंस में विचारों का टकराव देखने की तरफ बढ़ रहा है। यह […]

INN Bharat आलेख विमर्श

एक नागरिक का पयाम -लेफ्ट फ्रंट के नाम

जुलैखा जबीं केंद्र में साढ़े तीन बरस से अधिक और दीगर राज्यों में लगभग डेढ़ दशकों के झूठ, फरेब, मक्कारी, औरत विरोधी, अमीरपरस्त- गरीब विरोधी, नफरत, खून खराबा, गैर संवैधानिक आचरण और देश को दुनिया में शर्मशार करने वाली, पूंजीवादी बर्बरता के पुख्ता और जिन्दा सुबूत होने के बावजूद त्रिपुरा […]

आलेख पर्यावरण

राजधानी है जनाब, जहां भ्रष्टाचार कानून है और हुक्मरान खामोश

आईएनएन भारत डेस्क नई दिल्लीः दिल्ली पुलिस के निरंकुश भ्रष्टाचार की बदौलत देश की राजधानी में सांस लेना मुसीबत को दावत देना बनता जा रहा है। ग्रीन ट्रिब्यूनल से लेकर हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट तक ने लगातार प्रदूषण के बढ़ते स्तर का संज्ञान लेकर सरकार से समय समय पर […]

आलेख खेल-कूद

बीसीसीआई के अभिजात्य भेदभाव से क्रिकेट के खेल में पिछडता बिहार

Byअमित कुमार विश्व कप अंडर 19 में भारतीय टीम की जीत में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले, समस्तीपुर के अनुकूल राय को बहुत बहुत बधाई, बिहार के कई प्रतिभावान खिलाडी जिन्होंने अपने संघर्षो की बदौलत भारतीय टीम में जगह बनाई। बीसीसीआई के भेदभावपूर्ण रवैये के कारण बिहार में क्रिकेट के लिए […]

आलेख विमर्श

आम आदमी की आंखों में धूल झौंकता ‘जुमला सरकार‘ का ‘जुमला बजट‘

महेश राठी मोदी सरकार में वितमंत्री अरूण जेटली ने 1 फरवरी को बजट पेश करते हुए इस किसानों के लिए हितकारी बजट बताया और कहा कि सरकार का पूरा ध्यान गांवों और ग्रामीणों के ईज आॅफ लिविंग अर्थात रहन सहन को अच्छा बनाने पर है। इसके अलावा सरकार ने बजट […]