आलेख

documents

आलेख विमर्श

कितने राष्ट्रवादी और देशभक्त थे श्यामा प्रसाद मुखर्जी

महेश राठी श्यामा प्रसाद मुखर्जी का जन्म 6 जुलाई 1901 को हुआ था, जाहिर है आज भाजपा और संघ के लिए उन्हें याद करने का अवसर है। परंतु यहां सवाल यह है कि क्या श्यामा प्रसाद मुखर्जी किसी भी दृष्टि से राष्ट्रवादी अथवा देशभक्त कहे जा सकते हैं। यदि देश […]

आलेख विमर्श

फासीवाद का औजार झूठ और अफवाहें

महेश राठी फासीवाद एक आधुनिक विचारधारा है जो पुरातनपन्थी और आधुनिकता-विरोधी, जनवाद और समानता विरोधी विचारों का अवसरवादी इस्तेमाल करते हुए एक नयी किस्म की राजसत्ता की स्थापना का प्रयास करता है और सफल होने पर सबसे नग्न किस्म की तानाशाही को लागू करके पूंजीवादी हितों की रक्षा करता है। […]

आलेख विमर्श

नोटबंदी के बाद भाजपा अध्यक्ष ने बैंक में जमा की सबसे ज्यादा रकम

कृष्णा झा यह नोटबंदी की घोषणा के केवल पांच दिन बाद हुआ। अहमदाबाद जिला सहकारी बैंक ने सबसे अधिक पुराने नोटों को बदलने के लिए इनाम जीता, यह सारे पांच सौ और एक हजार के नोट थे जिन्हें जिन्हें सबसे कम दिनों में नये नोटों में बदला गया। बदले गये […]

आलेख

लालू प्रसाद: फ़िरकापरस्ती के फन को कुचल के रख देने वाला सामाजिक न्याय का योद्धा

जयंत जिज्ञासु सांप्रदायिक शक्तियों के ख़िलाफ़ अचल-अडिग डटे रहने वाले बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री व देश के पूर्व रेलमंत्री लालू प्रसाद का आज 71वाँ जन्मदिन है। मनुस्ट्रीम मीडिया जिन्हें ‘चाराचोर’ के नाम से बदनाम करती है, उन्हें मैं 6 विश्विद्यालय खोलने वाले मुख्यमंत्री के तौर पे जानता-मानता-सराहता हूँ। अगर रीढ़ […]

आलेख विमर्श

ईवीएम मशीन पर उठते सवाल और सवालों से ठिठका लोकतंत्र

महेश राठी मशीन के इस दौर में मशीन इंसानी जिंदगी का एक जरूरी हिस्सा बन गया है मशीन इंसानों को सुविधा देने और उसके कामों को सटीक और सही बनाने का साधन है। परंतु एक मशीन ऐसी भी है जिस पर लगातार सवाल उठ रहे हैं। और यह सवाल कोई […]

आलेख विमर्श

2024 में चुनाव चाहते हैं, तो 19 में भाजपा को हराना होगा: उपचुनाव का संदेश

जयंत जिज्ञासु अररिया और जहानाबाद के उपचुनाव में जीत के बाद अब जोकीहाट विधानसभा उपचुनाव में भी महागठबंधन की जीत महज जीत नहीं है। यह लालू प्रसाद की गैरमौजूदगी में मिली विजय है। नीतीश इसलिए छटपटा रहे हैं कि RCP टैक्स के सरगना व सारी सरकारी मशीनरी लगा देने के […]

Featured आलेख

बीएन मंडल: समाजवादी धारा का नायाब नायक

जयन्त जिज्ञासु बकौल जेम्स फ्रीमैन क्लार्क, “A politician thinks of the next election. A statesman, of the next generation”. अर्थात्, एक राजनीतिज्ञ अगले चुनाव के बारे में सोचता है, पर एक दूरदर्शी राजनेता अगली पीढ़ी के बारे में। भूपेन्द्र नारायण मंडल ऐसी ही समृद्ध सोच के एक विवेकवान राजनेता का […]

आलेख

मोदी और शाह पर राहुल के हमलों से बौखलाया गोदी मीड़िया

महेश राठी कर्नाटक में येदियुरप्पा के इस्तीफा देने और भाजपा सरकार गिर जाने के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने नई दिल्ली में एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और अमित शाह पर जमकर हमला किया। मोदी और शाह के बारे में कहना मुश्किल है कि […]

INN Bharat आलेख

कर्नाटक के बाद भी विपक्ष सुप्तावस्था में, कांग्रेस को क्षेत्रीय दलों को आगे रखकर व्यापक एकता बनानी होगी

संजय यादव प्रत्येक चुनाव में हारने और जीतने वाले दोनों के लिए निश्चित ही कुछ संदेश होते हैं। और कर्नाटक चुनावों के भी विपक्षी दलों के लिए एक साफ संदेश है। चाहे आपके पास चुनाव पूर्व और चुनाव के बाद के गठबंधन के रूप में महत्वपूर्ण बहुमत हो तो भी […]

आलेख

जिन्ना, सावरकर और श्यामा प्रसाद मुखर्जी की इस दोस्ती को क्या नाम दें

महेश राठी श्यामा प्रसाद मुखर्जी और मोहम्मद अली जिन्ना भारतीय इतिहास के ऐसे दो नाम हैं जिनमें आजादी से पहले स्पर्धा कम और दोस्ती ज्यादा दिखाई देती है और आजादी के बाद भगवा राजनीतिक दोनों को एक दूसरे का दुश्मन बनाकर पेश करती है। असल में आजादी से पहले दोनों के […]