Sitaram Murder: CM नीतीश की याचिका पर HC में 14 दिसंबर को होगी सुनवाई, बढ़ सकती हैं मुश्किलें

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के खिलाफ बाढ़ के एसीजेएम कोर्ट में 31 अगस्त 2009 को आईपीसी की धारा 302/34 और आर्म्स एक्ट के धारा 27 के तहत मामला दर्ज किया गया था। सीताराम सिंह हत्याकांड मामले में संज्ञान लिया गया था। यह मामला बहुत पुराना है। नीतीश कुमार जब यूथ नेता थे उसी समय का है। लेकिन जांच और अदालती कार्यवाही में उलझा पड़ा था। जिसे 2009 में पुनः बाढ़ के एसीजीएम कोर्ट में सुनवाई प्रारम्भ हुई थी।

हालांकि नीतीश कुमार ने बाद में मामले को लेकर हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। पटना हाई कोर्ट 14 दिसंबर 2018 को इस बात पर सुनवाई करेगा कि नीतीश कुमार के ऊपर लगे आरोपों की सुनवाई निचली अदालत में की जाए या नहीं। नीतीश कुमार की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता कृष्णा प्रसाद सिंह ने बहस किया था। कृष्णा प्रसाद सिंह ने बताया कि अगली बहस में सुप्रीम कोर्ट के वकील हिस्सा लेंगे।

सुप्रीम कोर्ट के अधिवक्ता कुणाल चंद्र सुमन से इस संबंध में पूछने पर कहा कि सुप्रीम कोर्ट का स्पष्ट निर्देश है कि अगर किसी भी आपराधिक मामले में दो-चार साल से अधिक समय से स्टे है, तो वैसी स्थति में स्टे आर्डर को निरस्त कर दिया जाय और ट्रायल कर मामले की सुनवाई की जाय। इससे साफ प्रतीत होता है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी के मुश्किलें बढ़नेवाली है।