Kisan Mukti March: राजधानी में संसद मार्ग पर उतरे देश भर के किसान

आईएनएन भारत डेस्क:
नई दिल्ली: अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति, जिसमें किसानों से जुड़े और गैर सरकारी संगठनों सहित लगभग 200 संगठन है, के आवाह्न पर “किसान मुक्ति मार्च” लेकर दिल्ली पहुँचे। आज संसद मार्ग विभिन्न संगठनों के झण्डे और बैनर से पटा गया।

इस आंदोलन को मोदी सरकार के खिलाफ जान आंदोलन की तरह , किसानों और आम नागरिकों का समर्थन मिला। किसानों की कई मांगें थी जिसमें से मुख्य कर्जमाफी और फसलों की लागत का डेढ़ गुना समर्थन मूल्य दिए जाने को लेकर विभिन्न राज्यों के किसान दिल्ली में इकट्ठा हुए हैं।

संसद मार्ग पर लाल टोपी पहने और लाल और हरा झंडा लिए किसानों ने ‘अयोध्या नहीं, कर्ज माफी चाहिए’ जैसे नारे लगाते दिखे।

किसानों के इस आंदोलन को डाक्टर, वकील, पूर्व सैनिक, पत्रकार/मीडिया कर्मी, पेशेवर और छात्रों सहित समाज के तमाम वर्गों के लोगों का साथ मिला है। इस किसान मुक्ति मार्च को पूर्व पीएम एचडी देवगौड़ा ने भी अपपना समर्थऩ दिया है। सांसद शारद यादव, राहुल गांधी, फारुख अब्दुल्ला, अतुल अंजान, सीताराम येचुरी, अरविंद केजरीवाल सहित अनेक राजनेताओं ने आकर अपनी बात रखी और अपना समर्थन दिया। पुलिस ने किसानों के मार्च को देखते हुए सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए हैं।