दिल्ली ट्रिपल मर्डर: घर का चिराग ही निकला घर जलानेवाला

आईएनएन भारत डेस्क:
नई दिल्ली: दिल्ली के वसंत कुंज थाना क्षेत्र में किशनगढ़ नामक मुहल्ला है। जहाँ बुधवार सुबह एक ही परिवार के तीन लोगों की हत्या हुई थी। परिवार का मुखिया मिथलेश, उसकी पत्नी सिया, बेटी नेहा और बेटा सूरज एक साथ रहते थे। जिसमें से परिवार का मुखिया मिथलेश, उसकी पत्नी सिया और बेटी नेहा को चाकू मारकर हत्या कर दिया था। चौथा सदस्य उनका अपना बेटा भी घायल था। जिसे इलाज़ के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

दिल दहला देनेवाली घटना में पुलिस के आला अधिकारी ने गंभीरता से लेते हुए जांच में जुट गए। पुलिस ने 8 सदस्यीय एक जाँच टीम बनाई, जो इस घटना की तहक़ीक़ात कर, हत्यारे को जल्द गिरफ्तार कर सके। पुलिस को घटना स्थल से कई सुराग मिले है। इन सभी सुरागों की कड़ियों को जोड़कर हत्यारों को खोजा जा रहा था। संदिग्धों से पूछताछ की जा रही है। लेकिन कोई क्लू नही मिल रहा था। तभी इस परिवार का चौथा सदस्य, जो जीवित था, से हत्यारों के बारे में पूछताछ की गई। पूछताछ में सूरज के बयान विरोधाभासी लगे। तब शक की सुई सूरज के तरफ मुड़ गयी। गहन पूछताछ की गई तो सूरज ने अपना गुनाह कबूल कर लिया।

सूत्रों की माने तो सूरज रोज रोज के डाट से परेशान था। सूरज अभी मात्र 19 साल का था। इसे गुटका खाने, देर रात को घर लौटने और दोस्तो के साथ आवारागर्दी करने के वजह से, उसके पिता उसे अक्सर डाटा करते थे। माँ सिया भी बहुत समझाते रहती थी। परंतु ये बात सूरज को अच्छी नहीं लगती थी।

हत्या की रात भी देर से आने के कारण सूरज को डाट फटकार लगाई गई। गुस्से में आकर सूरज ने चाकू से गोद कर, अपने पिता , माँ और छोटी बहन नेहा को मार डाला। घर के समान बिखेर कर लूट की वारदात का सक्ल देने का प्रयास किया। फिर अपने आप को भी घायल कर लिया। परंतु पुलिस के सामने वो टूट गया और अपना गुनाह कबूल कर लिया।