भारत ने बांग्लादेश को रोमांचक मुकाबले में हराकर बना एशिया चैंपियन

आईएनएन भारत डेस्क:
एशिया कप 2018 के फाइनल मुकाबले में भारत ने बांग्लादेश को रोमांचक मुकाबले में हराकर मैच जीत लिया। इसी जीत के साथ भारत ने 7वीं बार एशिया कप की ट्रॉफी अपने नाम कर लिया।

इससे पहले भारत ने सन 1984, 1988, 1990/91, 1995, 2010, 2016 में एशिया कप का चैंपियन बन चुका है। एशिया कप के इतिहास में भारत ही एक ऐसी टीम है, जिसने सबसे ज्यादा 7 बार यह खिताब अपने नाम किया है।

भारत निम्न 7 मौकों पर बना एशिया का किंग

1984 एशिया कप: भारत चैंपियन, फाइनल में श्रीलंका को 2-0 से हरा कर कप जीता था।

1988 एशिया कप: भारत चैंपियन, फाइनल में श्रीलंका को 6 विकेट से हरा बना चैंपियन।

1990/91 एशिया कप: भारत चैंपियन, फाइनल में श्रीलंका को 7 विकेट से हराया था।

1995 एशिया कप: भारत चैंपियन, फाइनल में श्रीलंका को 8 विकेट से हरा कर बना था चैंपियन।

2010 एशिया कप: भारत चैंपियन, फाइनल में श्रीलंका को 81 रन से हरा कर बना था चैंपियन।

2016 एशिया कप: भारत चैंपियन, फाइनल में बांग्लादेश को 8 विकेट से हराया।

2018 एशिया कप: भारत चैंपियन, फाइनल में फिर से बांग्लादेश को 3 विकेट से हरा कर जीता फाइनल मुकाबला।

भारत और बांग्लादेश के बीच दुबई में हुए खिताबी मुकाबले में पहले बल्लेबाजी करते हुए बांग्लादेश की टीम 48.3 ओवर में 222 रन बनाकर ऑलआउट हो गई। भारत को जीत के लिए 223 रनों का लक्ष्य मिला। भारत आखिरी गेंद पर जीत हासिल करते हुए बांग्लादेश को धूल चटा दी।

बांग्लादेश द्वारा बनाये 222 रनों के जवाब में भारत की टीम लक्ष्य का पीछा करते हुए 17 ओवर में 83 रन पर 3 विकेट खोकर संकट में पहुँच गई। लेकिन दिनेश कार्तिक ने 37 और महेंद्र सिंह धोनी ने 36 रन बनाए और पारी को संभाला। भारत के लिए कप्तान रोहित शर्मा (48) सर्वोच्च स्कोरर रहे। उन्होंने अपनी पारी में 55 गेंदों का सामना किया और तीन चौकों के अलावा इतने ही छक्के लगाए। केदार जाधव ने चोट के बाद भी 27 गेंदों में 23 रनों की नाबाद पारी खेली।