राहुल का मोदी सरकार पर तीखा हमला, बताया ठगों का सरदार

आईएनएन भारत डेस्क
राफेल मोदी सरकार के लिए मुसीबत का सबब बन चुका है। अब राफेल घोटाले की गूंज राजधानी की सड़कों और संसद के गलियारों से निकलकर गांव गांव में पहुंच चुकी है। राफेल मोदी सरकार के लिए दूसरा बोफोर्स सिद्ध हो रहा है। जिस प्रकार बोफोर्स के चलते राजीव गांधी को विपक्ष में बैठना पड़ गया था, लगता है उसी तरह मोदी और उनकी भाजपा भी 2019 के बाद विपक्षी बैंचों पर बैठी दिखाई देगी। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने फिर से राफेल विमान सौदे को लेकर नरेंद्र मोदी सरकार पर तीखा हमला बोला है और इस हमले में उन्होंने मोदी सरकार द्वारा चोरी से रोकने वाले अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई करने का दावा करते हुए इसे ठगों के सरदार की संज्ञा दे डाली है।

राहुल गांधी ने एक अखबार की खबर शेयर करते हुए मोदी सरकार पर कविता की शक्ल में हमला बोला है। इस हमले में एक ट्वीट करते हुए राहुल ने लिखा है कि मोदी-अंबानी का देखो खेल, एचएएल से छीन लिया राफेल। धन्नासेठों की कैसी भक्ति, घटा दिया सेना की शक्ति। जिस अफसर ने चोरी से रोका, ठगों के सरदार ने उसको ठोका। उन्होंने आगे अपने ट्वीट में लिखा कि पिट्ठुओं को मिली शाबाशी, सेठों ने उड़ती चिड़िया फांसी। जन-जन में फैल रही है सनसनी, मिलकर रोकेंगे लुटेरों की कंपनी।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा शेयर की गई खबर के अनुसार 2016 में राफेल विमान समझौता होने पर रक्षा मंत्रालय के एक संयुक्त सचिव ने विमानों की कीमत को लेकर सवाल किया था। यह अधिकारी विमान खरीद के लिए बातचीत करने वाली समिति का हिस्सा था। कल भी राहुल गांधी ने राफेल मामले को लेकर सरकार पर हमला बोला था। उन्होंने कहा था कि हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) से 30 हजार करोड़ रुपए का ठेका लेकर एक अकुशल व्यक्ति को देना ही प्रधानमंत्री का स्किल इंडिया कार्यक्रम है।