BSF जवान अच्युतानंद मिश्र, पाकिस्तान के लिए जासूसी करता गिरफ्तार

आईएनएन भारत डेस्क:
नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश ATS की टीम ने पाकिस्तान के लिए जासूसी करते हुए बीएसएफ (BSF) के जवान अच्युतानंद मिश्र को धार दबोचा। अच्युतानंद मिश्र वर्ष 2016 से पाकिस्तानी ख़ुफ़िया एजेंसी आईएसआई (ISI) के संपर्क में था।

उत्तर प्रदेश ATS के मुताबिक 2014 से अब तक कई मामले सामने आ चुके है। जिसमे पाकिस्तानी ख़ुफ़िया एजेंसी आईएसआई (ISI) सेंट्रल फोर्सेस से संपर्क कर जासूसी करवाती है। इसी से निपटने के लिए ATS एकाउंट एसपायोनेज टीम का गठन किया था। जब ATS की एकाउंट एसपायोनेज टीम ऐसी सभी इंडियन फेसबुक आईडी (ID) की जाँच कर रही थी, अभी अच्युतानंद मिश्र का फेसबुक एकाउंट के बारे में पता चला, जो पाकिस्तानी ख़ुफ़िया एजेंसी आईएसआई (ISI) से जुड़ा था।

उत्तर प्रदेश ATS को सुचना मिली थी कि पाकिस्तानी ख़ुफ़िया एजेंसी आईएसआई (ISI) खूबसूरत लड़कियों के नाम से फर्जी फेसबुक आईडी (ID) बनाकर लोगो से संपर्क करती हैं और गुप्त सूचनाएं प्राप्त करती हैं। इसी की जाँच के दौरान अच्युतानंद मिश्र का भी नाम सामने आया। अच्युतानंद मिश्र का मोबाइल में एक पाकिस्तानी का नंबर सेव था। उसी नंबर पर अच्युतानंद मिश्र द्वार कई गुप्त सूचनायें भेजी गयी थी।

उन्होंने बताया कि ATS और BSF की टीम ने अच्युतानंद मिश्र से पहले दिल्ली और फिर नोएडा में दो दिनों तक पूछताछ की। इस दौरान अच्युतानंद मिश्र के मोबाइल और फेसबुक से बहुत सारे साक्ष्य मिले। पाकिस्तानी नंबर पर भेजे गए वीडियो भी मिले। इसके बाद ही अच्युतानंद मिश्र को मंगलबार को गिरफ़्तार किया गया था।

अच्युतानंद मिश्र से गहन पूछताछ के साथ ही उसके व्हाट्सएप्प और फेसबुक के डेटा को डाउन लोड कर एक्सट्रैक्ट किया गया। जिससे कई अन्य जानकारियाँ भी मिली। मिश्र के मोबाइल में एक नंबर पाकिस्तानी मित्र के नाम से सेव था। इसी नंबर पर अच्युतानंद मिश्र पाकिस्तानी ख़ुफ़िया एजेंसी आईएसआई (ISI) से बात करता था और खुफ़िया जसनकारी टेक्स्ट और वीडियो के माध्यम से भेजता था।

सुरक्षा बल अच्युतानंद मिश्र को आज बुधवार को लखनऊ की अदालत में पेश करेगी और रिमांड की मांग करेगी। अच्युतानंद मिश्र का बैंक एकाउंट की भी जाँच की जा रही हैं। ताकि पता चल सके कि गुप्त सूचनाओं को देने के बदले मिश्र को कितने रुपये मिले थे।