ब्राह्मणवादी फासीवाद का मोतिहारी में एक और हमला, छात्र पर जानलेवा हमला, छात्राओं के कपड़े तक फाड डाले

आईएनएन भारत डेस्क
महात्मा गांधी केंद्रीय विश्वविद्यालय मोतिहारी एकबार फिर से चर्चाओं में है। मोतिहारी में ब्राह्मणवादी फासिस्ट गुण्ड़ों ने प्रो. संजय कुमार के पक्ष में लगातार आवाज उठाने वाले छात्र शक्ति सिंह को निशाना बनाया। कुछ ब्राह्मणवादी गुंडों ने शक्ति बाबू नामक छात्र पर जानलेवा हमला करके उन्हें बुरी तरह से घायल कर दिया। इस घटना को विश्वविद्यालय के मुख्य द्वार पर अंजाम दिया गया। बताया जाता है कि हमलावर वे ही लोग थे जिन्होंने कुछ दिनों पहले यहां प्रो. संजय कुमार पर जानेलेवा हमला किया था।

कहा जाता है कि शक्ति बाबू ने विश्वविद्यालयों के शिक्षकों द्वारा कुलपति प्रो. अरविंद अग्रवाल के खिलाफ निकाले गए विरोध मार्च में हिस्सा लिया था। साथ ही शक्ति बाबू लगातार प्रो. संजय कुमार पर जानलेवा हमले के खिलाफ भी आवाज उठा रहे थे। विश्वविद्यालय सूत्रों के अनुसार इन गुण्ड़ों ने तीन छात्राओं को भी डराया धमकाया था और उनके कपड़े तक फाड़ डाले थे।

इन घटनाओं को लेकर विश्वविद्यालय के प्रशासन के खिलाफ आवाज उठाने वाले शिक्षक और छात्र समुदाय का कहना है कि प्रशासन ने विश्वविद्यालय को एक फासिस्ट गुण्ड़ों के अराजक अड्डे में तब्दील कर दिया है। ध्यान रहे कि प्रो. संजय कुमार पर जानलेवा हमले के बाद ही शिक्षक यूनियन के पदाधिकारी उन्हें अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, नई दिल्ली लेकर आए थे। प्रो. संजय को गंभीर चोटें आई हैं और दिमाग पर गहरा सदमा लगा है। उन्हें एम्स के आर्थो वार्ड में भर्ती किया गया था जहां से उन्हें कुछ दिन पहले छुट्टी मिल गई है और वे अभी तक भी दिल्ली में ही हैं। प्रो. संजय पर हमले की घटना के बाद से ही विश्वविद्यालय में काफी असंतोष व्याप्त है। लगातार बारिश के बावजूद 12 सितंबर को कुलपति के खिलाफ मोतिहारी में एक जोरदार प्रदर्शन हुआ था जिसमें शिक्षकों और छात्रों ने बड़ी संख्या में भाग लिया था।

मोतिहारी केंद्रीय विश्वविद्यालय के प्रोफेसर संजय कुमार पर ब्राह्मणवादी सामंती गुंडों के हमले के बाद से शक्ति बाबू लगातार इस ब्राह्मणवादी गुण्ड़ा गिरोह का विरोध कर रहे थे। वह लगातार उन सामंती दरिंदों को चुनौती दे रहे थे। उसी कारण से अब उन सामंती गुण्ड़ो ने उन पर हमला बोल दिया है। उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है जहां उनकी हालत ठीक नही है।