मुजफ्फरपुर की बेटियों के हाल पर जिनके मुंह में ताले थे, वो जहानाबाद की बेटी पर झूठ फैला रहे हैं

आईएनएन भारत डेस्क
आगामी आम चुनावों में अपनी होने वाली दुर्दशा से आरएसएस-भाजपा इतना बौखला गयी हैं कि उन्होंने अपने झूठ और अफवाहों के कारखाने को पूरी गति से चला दिया है। ना केवल गली मुहल्ले के छोटे मोटे नेता बल्कि भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ताओं ने इस झूठे प्रचार की कमान संभाल ली है। जहानाबाद में अस्पताल में देरी से पहंुचने पर एक बच्ची की मौत हो गयी तो अफवाह और झूठ के कारखाने ने फौरन काम शुरू कर दिया और फैलाया कि यह भारत बंद के कारण मौत हुई है और अब इसका जवाब कौन देगा।

यह झूठ फैलाने में केवल भाजपा-आरएसएस का अफवाह गिरोह सक्रिय नही हुआ बल्कि पूरा गोदी मीड़िया भी इस झूठ के प्रचार के लिए लग गया और कहने लगा कि इसके लिए जिम्मेदार कौन। ध्यान रहे यह वही नेता हैं जिनकी जबान पर मुजफ्फरपुर काण्ड के बाद ताले पड़ गये थे। भाजपा के प्रवक्ता और केन्द्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद इस काम में सबसे आगे हैं। वह जब नाक फूलाकर और जोर से चीखने के अंदाज में बोलते हैं तो ऐसा जान पड़ता है कि भाजपा की तरफ से बोलकर वह पूरे देश पर नही बल्कि पूरी दुनिया पर कोई बड़ा एहसान कर रहे हों। इसके अलावा मीड़िया के लोगों से भी उनका बात करने का अंदाज हमेशा धमकाने वाला ही रहता है। आज भी उसी धमकाने के अंदाज में वह पूछते रहे कि मौत की जिम्मदारी कौन लेगा।

वहीं दूसरी तरफ एक समाचार पोर्टल के अनुसार भारत बंद के दौरान बच्ची की हुई मौत पर जहानाबाद के एसडीओ पारितोष कुमार ने सफाई देते हुए कहा कि बच्ची की मौत जाम में एंबुलेंस फंसने की वजह से नहीं हुई है। बल्कि उसके परिजन उसे देर से अस्पताल लेकर जा रहे थे। इसीलिए बच्ची की मौत हुई है। अब दिल्ली से देश का हाल जानने वाले रविशंकर प्रसाद और उनकी पार्टी बताये कि बच्ची की मौत की जिम्मेदारी के लिए किसे सजा देंगे। क्या वह इस बच्ची की मौत का कारण वहां के एसडीओ से भी अधिक जान सकते हैं और उनके कौन से सूत्र हैं जो दिल्ली में बैठे ही उन्हें जाहनाबाद का झूठा ज्ञान दे रहे हैं।

बहरहाल, हार की आहट जैसे जैसे तेज होती जायेगी आरएसएस-भाजपा की झूठ और अफवाहों के कारखाने का कारोबार भी तेज होता जायेगा। आखिर ब्राह्माणवाद का पूरा अस्तित्व टिका ही इन झूठ अफवाहों और सनातनी गप्पों के उपर है और जब झूठ पकडे जायेंगे तो सारा दोष मीड़िया के सर पर मढ़ा जायेगा।