फ्रांस के 3 राफेल लड़ाकू विमान भारत में पहुंचे, सौदे पर हंगामा अभी भी जारी

आईएनएन भारत डेस्क:
नई दिल्ली: भारत ने फ्रांस से 36 राफेल लड़ाकू विमान खरीदने का सौदा किया था। इस सौदे को लेकर विपक्ष ने सरकार को घेरने का कोई भी कोई भी मौका अपने हाथ से जाने नहीं दे रही है। भारत सरकार भी इस सौदे में संतोषजनक जवाब नही दे पा रही हैं। इसी बीच फ्रांस के 3 राफेल लड़ाकू विमान भारत में पहुंचे हैं। ये तीनों राफेल लड़ाकू विमान ग्वालियर एयरबेस पर अगले 3 दिन तक मौजूद रहेंगे, जिन पर भारतीय वायुसेना के पायलट ट्रेनिंग करेंगे।

मीडिया में आ रही खबरों को सच मने तो रविवार सुबह ही फ्रांस के तीनो राफेल लड़ाकू विमान भारत पहुचे हैं। अभी ग्वालियर के एयरबेस में रखा गया हैLजहां तीन दिन तक रुकेगे।

बतादें, फ्रांस वायुसेना के तीन राफेल लड़ाकू विमान ऑस्ट्रेलिया में एक अंतरराष्ट्रीय युद्धाभ्यास में शामिल होने गए थे। युद्धाभ्यास की समाप्ति के बाद, वापसी में ग्वालियर एयरबेस में रुके हैं। इस अभ्यास में भारतीय वायुसेना ने भी हिस्सा लिया था। ग्वालियर एयरबेस में रुकने का सबसे बड़ा बजह है कि एक साझा अभियान के तहत भारतीय वायुसेना के पायलट ग्वालियर में राफेल लड़ाकू विमान उड़ाएंगे और फ्रांस वायुसेना के पायलट मिराज 2000 लड़ाकू विमानों पर हाथ आजमाएंगे। इससे आने वाले समय मे जब राफेल लड़ाकू विमान भारत आयेगा तो भारतीय वायुसेना के पायलट इस लड़ाकू विमान से पहले से ही परिचित रहेंगें।

फ्रांस से सितंबर 2019 तक 36 राफेल लड़ाकू विमान के खेप में से पहल खेप भारत आने की उम्मीद हैं, ऐसा विश्वास भारतीय वायुसेना को है। पूरे विमान आने में कुछ और साल लगेंगे। इन 36 लड़ाकू विमानों को भारतीय वायुसेना की दो स्क्वाड्रन में बांटा जाएगा। भारत सरकार ने फ्रांस सरकार के साथ 36 विमानों का ये सौदा 60 हजार करोड़ में किया था। जिसको लेकर कांग्रेस पार्टी पिछले काफी समय से मोदी सरकार को घेर रही हैं। इस सौदे में क्रप्शन का आरोप कांग्रेस पार्टी, मोदी सरकार के ऊपर लगा रही हैं।