ओेबीसी प्रोफेसर पर ब्राहमणवादी आतंकियों का हमला, प्रो. संजय यादव की हालत नाजुक

आईएनएन भारत डेस्क
जेएनयू के पूर्व छात्र और बिहार में मोतिहारी के महात्मा गांधी सेंट्रल यूनिवर्सिटी के सोशियोलॉजी के असिस्टेंट प्रोफेसर संजय कुमार यादव पर ब्राहमणवादी आतंकियों ने जानलेवा हमला किया है। प्राप्त ताजा सूचनाओं के अनुसार प्रो. संजय यादव की हालत बेहद नाजुक है और बताया जाता है कि उन्हें दिल्ली के एम्स लाने की सलाह दी गई है। प्रो. संजय पर हमले के अलग अलग कारण बताये जा रहे हैं। परंतु प्रो. संजय यादव द्वारा दर्ज करायी गई रिपोर्ट में कहा गया है कि उन्हें महीने भर से धमकियां मिल रही थी।

ब्राह्मणवादी आतंक का शिकार हुए प्रो. संजय कुमार यादव जेएनयू के पूर्व छात्र रह चुके हैं और वर्तमान में वह मोतिहारी की महात्मा गांधी सेंट्रल यूनिवर्सिटी में सोशियोलॉजी के असिस्टेंट प्रोफेसर के तौर पर नियुक्त कार्यरत थे।

कुछ अपुष्ट खबरों के अनुसार बताया जा रहा है कि संजय कुमार यादव ने अटल बिहारी वाजपेयी के बारे में एक आलोचनात्मक फेसबुक पोस्ट शेयर किया था, इसलिए उनपर हमला किया गया। परंतु संजय यादव की ओर से दर्ज कराए रिपोर्ट में कहा गया है कि कुलपति के खिलाफ बोलने के चलते उन्हें पिछले महीने से ही हमले की धमकियां आ रही थीं।

 

प्रो. संजय यादव द्वारा दर्ज एफआईआर में बताया है कि इस हमले में उनके पेट, चेहरे और गुप्तांग पर बुरी तरह चोटें आयी हैं। बाद में उनपर पेट्रोल भी डाला गया और जलाने की धमकी भी दी गई। हमलावरों ने पीटने के बाद कहा कि वो शाम को उन्हें जलाने आएंगे। एफआईआर में लिखा है कि उनसे मारपीट के दौरान हमलावर चिल्लाते रहे कि उन्होंने वीसी के खिलाफ बोला है, इस्तीफा देकर भाग जाओ वरना शाम को आकर जला देंगे।

एक पिछडे प्रोफेसर पर इस हमले के खिलाफ चाारो तरफ छात्रों और पिछड़ा समुदाय में आक्रोश व्यापत है। जेएनयू में ओबीसी यूनाइटेड फोरम ने 18 अगस्त को गंगा ढ़ाबे से साबरमती तक शाम 5.30 बजे एक आक्रोश मार्च का भी आयोजन किया। जिसमें बढ़ चढ़कर छात्रों ने भाग लिया और अपने गुस्से का इजहार किया।