अब जंपसूट बना परीक्षा में रुकावट, जाने क्या हैं पूरा मामला

आईएनएन भारत डेस्क:
यूजीसी नेट एक बार फिर से विवादों के घेरे में है। यह मामला दिल्ली पब्लिक स्कूल सिलीगुड़ी, पश्चिम बंगाल का है। जहाँ ड्रेस कोड को लेकर परीक्षार्थी को परीक्षा में बैठने नहीं दिया गया था। यह नेशनल एलिजिबिलिटी टेस्ट (NET) की परीक्षा 8 जुलाई को देशभर में आयोजित की गई थी। जिसमें लाखों उम्मीदवारों ने भाग लिया।

वहीं दिल्ली विश्वविद्यालय से अंग्रेजी में मास्टर्स (PG) करनेवाली एक परीक्षार्थी तिरणा सेनगुप्ता ने फेसबुक पर अपना दुखड़ा बयां किया और लिखा कि “दिल्ली पब्लिक स्कूल, सिलीगुड़ी में सीबीएसई द्वारा आयोजित नेट की परीक्षा थी। जिसमें जब मैं परीक्षा देने जा रही थी तो गेट में खड़े वहां के टीचर्स ने मुझसे मेरे कपड़ों को लेकर कई सवाल किए और कहा कि आप इस तरह के कपड़े पहन कर परीक्षा देने नहीं आ सकती। तिरणा ने आगे लिखा- कपड़ों को लेकर किए गए सवालों पर मुझे काफी शर्मिदगी महसूस हुई। मैं पहले भी जंपसूट ( एक प्रकार का मॉडर्न ड्रेस जिसमें शर्ट और पैंट एक साथ जुड़े होते हैं) पहन कर कई परीक्षा दे चुकी हूं क्योंकि इस तरह की ड्रेस मेरे लिए कंफर्टेबल है।

मीडिया में आ रही खबरों की माने तो दिल्ली पब्लिक स्कूल, सिलीगुड़ी, पश्चिम बंगाल की वाईस प्रिंसिपल सुकांता घोष से इस घटना के बारे में पूछने पर, उन्होंने कहा कि ऐसा कोई भी निर्देश हमने स्कूल स्टाफ़ को नही दिया और हमे इस बारे में कोई जानकारी भी नहीं है। उन्हें यह बात फेसबुक से ही पता चली है और कहा कि वो इसकी जाँच करेंगें।

नेट के परीक्षार्थियों के अनुसार, देश के कई हिस्सों से ऐसी और भी घटनाएं सामने आई हैं, जिसमें छात्र-छात्राओं के कपड़े के बाजू कैंची से काट दिए गए। अभी तक इस मामले पर CBSE/UGC NET की तरफ से कोई भी बयान नहीं आया हैं ।

बता दें, नेट की परीक्षा कुछ सालों से इसे सीबीएसई की ओर से आयोजित किया जा रहा है। लेकिन पहले यूनिवर्सिटी ग्रांट कमीशन (यूजीसी) की ओर से आयोजित की जाती थी। वहीं नेट की परीक्षा में ड्रेसकोड के लिए कोई गाइडलाइन नहीं है। केवल इलेक्ट्रॉनिक सामान और घड़ी पहनकर आप परीक्षा में नहीं बैठ सकते।