यूपी में अभी तक भी अखिलेश सरकार की परियोजनाओं का ही दोबारा शिलान्यास कर रहे हैं योगी-मोदी

आईएनएन भारत डेस्क
उत्तर प्रदेश में योगी सरकार बने एक साल से भी अधिक बीत चुका है परंतु योगी सरकार अभी भी विकास के नाम अपनी पूर्ववर्ती अखिलेश सरकार की योजनाओं परियोजनाओं को हरी झण्डी दिखाने और शिलान्यास करने से आगे नही बढ़ पा रही है। यहां तक कि अखिलेश सरकार में जिन परियोजनाओं का शिलान्यास कर दिया था उनका फिर से शिलान्यास किया जा रहा है। पूर्वांचल एक्सप्रेस वे इसका नया उदाहरण है।

जाहिर है पूरी जिंदगी लव जिहाद और गौरक्षा के नाम पर राजनीति करने वालों के पास विकास का कोई अपना माॅडल हो ऐसा मुश्किल ही होगा। धार्मिक उन्माद की भावुकतापूर्ण राजनीति करने और विकास के काम करने की मानसिकता में एक बुनियादी फर्क होता ही है। इसीलिए यूपी की योगी सरकार ने एकबार फिर से अखिलेश सरकार की परियोजना को नाम बदलकर अपना बनाने की कोशिश की है।

इसी कोशिश को अंजाम देने के लिए आजमगढ़ जिले में पीएम नरेंद्र मोदी शनिवार को पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का शिलान्यास करने पहंुचे हैं। हालांकि इस कार्यक्रम से पहले ही पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने इस परियोजना पर बोलते हुए साफ कर दिया है कि दरअसल यह उनकी सरकार की परियोजना थी जिसका नाम बदलकर योगी सरकार ने इसे अपना बनाने की कोशिश की है। पूर्व मुख्यमंत्री ने यह भी दावा किया कि यदि सूबे में उनकी सरकार होती तो यह हाइवे कभी का बनकर पूरा हो गया होता।

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने लखनऊ में प्रेस कॉन्फ्रेंस करके भाजपा पर निशाना साधते हुए बताया कि पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे हमारी परियोजना थी। हमने इस परियोजना को समाजवादी पूर्वांचल एक्सप्रेस का नाम दिया था, लेकिन योगी सरकार ने समाजवादी नाम हटा दिया और इसे पूर्वांचल कर दिया।

अखिलेश यादव ने कहा कि हमने इस एक्सप्रेस-वे को उन्होंने वाराणसी से जोड़ने का काम किया था। उन्होंने योगी पर तंज कसते हुए कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ नरेंद्र मोदी को भी धोखा दे रहे हैं। योगी ने पूर्वांचल एक्सप्रेस वे से पीएम के संसदीय क्षेत्र को ही काट दिया और मोदी को पता ही नहीं चल पाया है।

पूर्व मुख्यमंत्री और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने एक्सप्रेस-वे के उद्धाटन से पहले कहा कि उनकी योजनाओं को सरकार अपने नाम से प्रचारित कर रही है। अखिलेश ने यह भी बाताया कि समाजवादी पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का शिलान्यास तो वे पहले ही कर चुके थे।

अखिलेश यादव ने योगी सरकार की विफलताओं को निशाने पर लेते हुए कहा कि प्रदेश में कानून व्यवस्था नाम की कोई चीज नहीं है। भाजपा सरकार के पास उपलब्धि गिनाने के लिए कुछ नहीं है। यह परियोजना पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के दिमाग की उपज थी। छह लेन के एक्सप्रेसवे को आठ लेन तक विस्तारित किया जा सकता है। यह राजधानी लखनऊ को गाजीपुर से जोड़ेगा।