शुजात बुखारी को स्वतंत्र व निर्भीक पत्रकारिता की कीमत चुकानी पड़ी, चौथा संदिग्ध पिस्तौल सहित गिरफ्तार

आईएनएन भारत डेस्क
जम्मू -कश्मीर आये दिन आतंकी गतिविधियों के कारण सुर्खियों में बना रहता है। इस बार राइजिंग कश्मीर के संपादक शुजात बुखारी की हत्या के कारण सुर्खियों में बना हुआ है। शुजात बुखारी एक स्वतन्त्र व निष्पक्ष पत्रकारिता के लिए जाने जाते थे।  आज के दौर में , वो भी पत्रकारिता के क्षेत्र में, सच्चाई के साथ खड़ा होना सबसे बड़ा खतरा हैं। इसी की कीमत उन्हें चुकानी पड़ी। इन्होंने हमेशा निडर व निर्भीक होकर अलगाववादी/आतंकी के ख़िलाफ़ ही नहीं बल्कि सरकार के गलत व जान विरोधी नीतियों के ख़िलाफ़ भी खुलकर लिखते रहे थे। यही एक स्वतंत्र व निर्भीक पत्रकार की पहचान हैं। जिसका कीमत उन्हें अपनी जान देकर चुकानी पड़ी।

जम्मू-कश्मीर पुलिस को उस वक्त बड़ी कामयाबी मिली है। जब शुजात बुखारी हत्‍या मामले में चौथे संदिग्‍ध को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। चौथे संदिग्ध से पुलिस ने उस बंदूक को भी बरामद किया है, जिसे उसने वारदात की जगह से उठाया था।

शुक्रवार को प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में कश्‍मीर के आईजी एसपी पानी ने बताया कि शुजात बुखारी की हत्या एक आतंकी कार्रवाई है। इस मामले की जांच एसआईटी करेगी। इससे पहले जम्‍मू-कश्‍मीर पुलिस ने पत्रकार बुखारी की हत्या में चौथे संदिग्‍ध के बारे में खुलासा किया। पुलिस ने बताया कि जिस जगह पर शुजात बुखारी को गोली मारी गई थी, वहां का एक वीडियो सामने आया है जिसमें चौथा संदिग्ध दिख रहा है।

चौथा संदिग्ध शुजात बुखारी की बॉडी के पास ही खड़ा है। वीडियो में ऐसा लग रहा है कि शुरू में तो चौथा संदिग्ध शुजात बुखारी की मदद करने का नाटक कर रहा है। कुछ ही देर में वहां पर भीड़ बढ़ जाती है तो वह मौका देखते ही पिस्टल उठाकर वहां से भाग जाता है।

जम्‍मू-कश्‍मीर पुलिस के अनुसार, आतंकी शुजात बुखारी को जान से मारने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ना चाहते थे। इसीलिए उन पर आतंकियों ने ताबड़तोड़ 15 गोलियां दागी। जिससे शुजात बुखारी की मौके पर ही मृत्यु हो गई। शुजात बुखारी की हत्या के बाद सामने आए संदिग्ध बाइक सवार हमलावरों की पहचान कर ली गई। उनकी पहचान अबू उसामा, नवीद जट और मेहराजुद्दीन बंगारू के रूप में हुई है।

बता दें कि श्रीनगर में गुरुवार की शाम तीन बाइक सवार आतंकियों ने शुजात बुखारी पर ताबड़तोड़ 15 गोली मारकर हत्‍या कर दी। जम्मू एवं कश्मीर पुलिस के मुताबिक, गुरुवार की शाम वह श्रीनगर के प्रेस एन्क्लेव में स्थित अपने ऑफिस से एक इफ्तार पार्टी में शरीक होने के लिए निकले थे। उसी समय उन पर यह जानलेवा हमला हुआ। हमले में उनकी सुरक्षा में तैनात दो सुरक्षाकर्मियों की भी मौत हो गई।