रिश्वत लेकर भी भाजपा नेता ने नही दिलाया ठेका, घूसखोरी में एफआईआर

आईएनएन भारत डेस्क
मुज्जफ्फरनगर दंगे में आरोपी रहे और उत्तेजना फैलाने और भडकाउ भाषणों के लिए कुख्यात रहे भाजपा के नेता और सरधना सीट से विधायक संगीत सोम पर रिश्वत मांगने का आरोप लगा है। एक ठेकेदार संजय प्रधान ने संगीत सोम पर सरकारी ठेका दिलाने के बदले 43 लाख रुपए मांगने का आरोप लगाया है। संजय प्रधान मेरठ के घाट गांव के प्रधान हैं।

आरोप लगाने वाले ठेकेदार संजय प्रधान ने आरोप लगाया कि रिश्वत की रकम देने के बावजूद न तो उसे ठेका मिला और न ही उन्हें रकम वापस मिली। ठेकेदार की शिकायत पर पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

मेरठ के घाट गांव के प्रधान संजय शनिवार रात एसएसपी के आवास पहुंचे। यहां उन्होंने एक लिखित शिकायत में बीजेपी के सरधना सीट के विधायक संगीत सोम पर गंभीर आरोप लगाये हैं। संजय प्रधान ने बताया कि वह राज्य के लोक सेवा विभाग, पीडब्ल्यूडी और अन्य विभाग में ठेकेदारी का काम करते हैं। मेरठ के दादरी में सरकारी कॉलेज बनाने का ठेका दिलाने के एवज में विधायक संगीत सोम ने उनसे 43 लाख रुपए की मांग की थी।

संजय प्रधान के मुताबिक के उसने आरोपी विधायक को यह रकम 3 किस्तों में दी थी। आरोपों के मुताबिक संगीत सोम ने उन्हें खुद फोन करके पैसे की मांग की थी लेकिन पैसे देने के बावजूद भी उन्हें ठेका नहीं मिला। संजय कहते हैं कि जब उन्होंने अपनी रकम वापस मांगी, तो विधायक के गुर्गों ने उन्हें विधायकी पद का रोब दिखाना और धमकाना शुरू कर दिया। ध्यान रहे अपने आप को हिंदू ह्दय सम्राट की तरह पेश करने वाले संगीत सोम भाजपा से पहले समाजवादी पार्टी में थे और 2009 का लोकसभा चुनाव सोम ने सपा के टिकट पर लड़ा था। इसके अलावा अलीगढ़ में एक स्लाॅटर हाउस बनाने के लिए जमीन खरीद में भी सोम खासे चर्चाओं में रहे हैं।

पुलिस ने इस पूरे मामले को गंभीरता से लेते हुए मामले की जांच शुुरू कर दी है। इस मामले की जांच का जिम्मा खुद एसपी देहात राजेश कुमार ने संभाला है।

वैस बता दें कि विधायक संगीत सोम का विवादों से पुराना चोली दामन सरीखा साथ रहा है। संगीत सोम इससे पहले भी पैसों के लेनदेन के विवाद की चपेट में फंस चुके हैं। पहले भी उन पर पैसे हडपने के आरोप लगे हैं। इससे पहले उनके ईंट भट्टा कारोबार के पार्टनर ने उन पर 18 लाख रुपए हड़पने का आरोप लगाया था।