पुलिस बर्बरता के पक्ष में उतरे तमिलनाडु के मुख्यमंत्री, स्टालिन, कमल हासन भी गिरफ्तार

आईएनएन भारत डेस्क
तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ईके पलानीसामी ने एक चुने हुए जन प्रतिनिधि की सारी नैतिकता और मार्यादा को तार तार करते हुए तूतीकोरीन में पुलिस द्वारा की गई 13 बर्बर हत्याओं को जायज ठहरा दिया है। सत्ता में बैठा जन प्रतिनिधि किस कदर संवेदनहीन और हिंसा का हिमायती हो सकता है उसका स्पष्ट उदाहरण तमिलनाडु के मुख्यमंत्री का बयान है।

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ईके पलानीसामी ने तूतीकोरीन में प्रदर्शनकारियों पर हुई फायरिंग को उचित ठहराते हुए इस मामले पर सफाई देते हुए कहा अगर किसी पर हमला किया जाता है तो वो खुद के बचाव में कोई न कोई कदम उठाता है। यही कदम पुलिस ने मंगलवार को उठाया।

ध्यान रहे तूतीकोरीन में प्रदर्शन कर रही भीड़ पर पुलिस ने सीधे गोली चलाई जिसमें अभी तक प्राप्त समाचार के अनुसार 13 लोग मारे जा चुके हैं। सरकार की संवेदहीनता ना केवल इन लोगों पर पुलिसिया हमले को जायज ठहराने में जाहिर हो रही है बल्कि मारे गये लोगों की गिनती को लेकर भी जिस तरह का खेल सरकार कर रही है उससे साफ जाहिर होता है कि सरकार की निगाह में एक नागरिक का क्या स्थान है। प्रदेश के मुख्यमंत्री मारे जाने वालों की गिनती 9 बता रहे हैं तो राज्य के राज्यपाल ने 11 लोगों के मारे जाने का शोक संदेश प्रसारित किया है। जबकि अन्य सूत्रों के अनुसार अब तक 13 लोगों के मारे जाने का समाचार है और लगभग 80 लोग अभी भी घायल होकर अस्पताल में भर्ती हैं। इनमें से अभी भी कईं लोगों की हालत गंभीर है।

तमिलनाडु पुलिस की इस बर्बरता और हैवानियत के प्रति सरकार का रवैया इसलिए भी हमदर्दी भरा है क्योंकि यह पूरा हत्या काण्ड़ ही सरकार के इशारे पर रचा गया लगता है। वेदांता -स्टरलाईट की भाजपा से नजदीकी इसका एक बड़ा कारण है तो वहीं घूस देकर सरकारों को खरीदने की उसकी शैली के कारण वह दुनिया भर में कुख्यात कंपनी है। ऐसी स्थिति में जब इस कंपनी के खिलाफ आंदोलन कईं सालों से चल रहा है तो जाहिर है सरकार की मदद से कंपनी ने इस कुचलने के लिए सरकार से मिलकर इस काण्ड़ को अंजाम दिलवाया है। अब ऐसे में तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के ताजा बयान ने इस मिलीभगत की पुष्टि कर दी है।

तूतीकोरीन के इस हत्या काण्ड़ के बाद भी विपक्षी दलों के विरोध प्रदर्शनों का सिलसिला थमने का नाम नही ले रहा है। डीएमके के नेतृत्व में जहां समूचा विपक्ष सड़कों पर उतर आया है तो वहीं अभिनेता से हाल ही में राजनेता बने कमल हासन भी इस काण्ड़ के विरोध में सड़कों पर उतर आये जिन्हें सरकार ने गिरफ्तार कर लिया था। इसके अलावा मुख्यमंत्री कार्यालय पर मुख्यमंत्री के द्वारा मिलने का समय नही दिये जाने के विरोध में धरने पर बैठे डीएमके के नेता स्टालिन को भी गिरफ्तार कर लिया गया था।

 

इस विरोध के बाद भी तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ईके पलानीसामी ने पुलिसिया दमन के पक्ष में और प्रदर्शनकारियों के खिलाफ बयान देने से पीछे नही हटे उन्होंने कहा कि पिछले कुछ दिनों में जो कुछ भी हुआ वो केवल इसलिए हुआ क्योंकि कुछ पार्टी, एनजीओ और असमाजिक तत्व प्रदर्शनकारियों को गलत रास्ते पर ले गए।

Tuticorin: Makkal Needhi Maiam (MGM) President and actor Kamal Haasan addresses the media

तमिलनाडु के सीएम पलानीसामी ने कहा ट्वीट करके तूतीकोरिन में हुई गोलीबारी को सही ठहराया है। उन्होंने लिखा है कि अगर कोई आपको मारता है तो निश्चित है कि आपको खुद को बचाने की कोशिश करेंगे। इस तरह के हालात में कोई भी प्री-प्लान तरीके से काम नहीं करता है। उनके अनुसार पुलिस द्वारा ये हत्यायें आत्मरक्षा में की गई हैं।