सिद्धारमैया का भाजपा को उसी की भाषा में जवाब, भेजा 100 करोड़ की मानहानि का नोटिस

आईएनएन भारत डेस्क
कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने भारतीय जनता पार्टी, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और भाजपा सीएम उम्मीदवार बीएस येदियुरप्पा के खिलाफ 100 करोड़ रुपए की मानहानि का नोटिस भेजा है। सिद्धारमैया का आरोप है कि उन लोगों ने जानबूझकर खराब मंशा के तहत उनके खिलाफ अनर्गल और गलत एवं अपमानजनक बयानबाजी की है और उन पर बेबुनियाद भ्रष्टाचार के अनर्गल आरोप लगाए हैं।

अपने कानूनी नोटिस में सिद्धारमैया ने प्रधानमंत्री मोदी से चुनावी भाषणों के दौरान राज्य की कांग्रेस सरकार और उन पर लगाए गए आरोपों के लिए माफी मांगने की मांग की है। नोटिस में भाजपा के चुनावी विज्ञापनों का भी हवाला दिया गया है। कर्नाटक सीएम ने छह पन्नों का कानूनी नोटिस भाजपा, मोदी, अमित शाह और येदियुरप्पा को भेजा है।
सिद्धारमैया ने अपने नोटिस में चेतावनी दी है कि अगर भाजपा और उसके नेता माफी नहीं मांगते हैं तो वह आपराधिक और मानहानि का मुकदमा करेंगे। वहीं कांग्रेस ने भी 100 करोड़ रुपए का मानहानि का मुकदमा करने की चेतावनी भाजपा और उसके नेताओं को दी है।

असल में पिछले कुछ दिनों से भाजपा के सभी नेताओं के निशाने पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की जगह सिद्धारमैया आ गये थे। यदि गौर से देखें तो क्या मोदी, क्या अमित शाह और पूरी भाजपा सिद्धारमैया को निशाने पर लेते हुए सभी उन पर तथाकथित भ्रष्टाचार के आरोप लगा रहे थे। भाजपा के इस हमले से साफ जाहिर था कि भगवा पार्टी सिद्धारमैया की चुनावी रणनीति को लेकर असहज और सहमी हुई है। इसीलिए भाजपा ने राहुल की बजाये सिद्धारमैया को निशाने पर ले लिया था। अब सिद्धारमैया ने हमेशा की तरह भाजपा को फिर से उसी की भाषा में जवाब दिया है। जाहिर है कर्नाटक सीएम का यह दांव कानूनी स्तर पर कुछ भी नतीजा लाये परंतु राजनीति के मैदान में उन्हें जरूर ही फायदा देने वाला है।

ध्यान रहे अपने चुनावी भाषणों में पीएम मोदी ने सिद्धारमैया और उनकी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा था कि यह सीधा रुपैया की सरकार है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा था कि यह 10 प्रतिशत वाली सरकार है। कर्नाटक विधानसभा चुनाव प्रचार के दौरान एक रैली को संबोधित करते हुए भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कहा था कि सिद्धारमैया सरकार भ्रष्टाचार की पर्याय है। शाह ने कहा था कि सिद्धारमैया 40 लाख की घड़ी पहनते हैं इससे पता चलता है कि वह कितने भ्रष्ट हैं। अब उनकी इसी जुमलेबाजी से सिद्धारमैया ने मोदी और भाजपा को कानूनी नोटिस देकर जवाब दिया है।

कर्नाटक विधानसभा चुनाव के लिए प्रचार-प्रसार अपने अंतिम दौर में है। जहां 12 मई को 224 सीटों के लिए मतदान होगा और 15 मई को नतीजे आएंगे।