दलित महिला ने भाजपा नेता पर लगाया बलात्कार का आरोप, मीड़िया के सामने सर मुंडवाया

आईएनएन भारत डेस्क
पुलिस प्रशासन और बार एसोसिएशन से ना उम्मीद दलित महिला ने अंत में इंसाफ पाने के लिए मीड़िया का रूख किया और देश और दुनिया के सामने अपना दर्द रखते हुए विरोधस्वरूप अपने बाल तक मीड़िया के सामने ही मुंडवा डाले। अभी देश यूपी में उन्नाव और जम्मू के कठुवा में भाजपा नेताओं की करतूतों को भूल भी नही पाया था कि उतर प्रदेश में एक महिला वकील ने भाजपा के एक नेता और वकील पर बलात्कार और लगातार ब्लैकमेलिंग का आरोप लगाकर राजनीतिक हलकोें में सनसनी फैला दी है।

लखनऊ की एक दलित महिला वकील ने अपने वरिष्ठ सहयोगी और बीजेपी नेता सतीश शर्मा पर बलात्कार और मानसिक रूप से तीन साल तक उसे प्रताड़ित करने का आरोप लगाया हैै। महिला ने आरोप लगाते हुए कहा कि शर्मा ने दबाव बनाकर उसके साथ दुष्कर्म किया और फिर एक अश्लील वीडियो बनाकर उसे तीन साल तक उसी वीडियों के माध्यम से ब्लैकमेल किया।

 

अपने साथ हुई नाइंसाफी और दुष्कर्म को बयान करने के लिए मीड़िया के सामने आयी महिला वकील ने अपने सिर के बाल तक भी मुंड़वा लिए। महिला वकील ने पुलिस पर आरोप लगाया कि जब वह शिकायत दर्ज कराने गई तो पुलिस ने उसकी एक नही सुनी। महिला ने पुलिस पर आरोप लगाते हुए कहा कि किसी तरह एक शिकायत दर्ज कराई तो उसके बाद भी पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। महिला ने संवाददाता सम्मेलन में गुस्से में यहां तक भी कह दिया कि अगर सोमवार शाम तक शर्मा के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई तो वह आत्महत्या कर लेगी।

 

महिला सतीश शर्मा के बारे में बताते हुए कहा कि सतीश शर्मा भाजपा का एक बड़ा नेता है। इसी कारण से प्रशासन में शर्मा काफी रसूख रखता है। इसी कारण से उसके खिलाफ कोई कार्रवाई अभी तक नहीं हो रही है।

 

महिला ने मीड़िया से बात करते हुए हताशा में यह तक भी कहा कि अब कुछ भी बचा नहीं है। उन्होंने कहा कि मुझे डर लग रहा है क्योंकि शर्मा मेरे परिवार को धमकी दे रहा है। पीड़ित महिला ने कहा कि यह सब मेरे साथ सिर्फ इसलिए हो रहा है क्योंकि मैं दलित हूं।

 

पीड़िता वकील ने कहा कि मैंने अवध बार एसोसिएशन में भी शिकायत दर्ज कराई थी लेकिन वहां से भी कुछ नहीं किया गया। मैंने गाजीपुर पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई लेकिन अभी तक भी कार्रवाई नहीं करने के लिए वो हर बार अलग-अलग कारण बताकर मामले को रफा दफा करने की कोशिश करते रहे। पीड़ित दलित महिला वकील ने कहा कि मेरे परिवार को लगातार हत्या की धमकी दी जा रही हैं और मामले को रफा-दफा करने के लिए पैसे का लालच भी दिया जा रहा है।