धरा गया एक और मंदिर का पुजारी, सात साल की बच्ची को बना रहा था शिकार

आईएनएन भारत डेस्क

जयपुर: धर्म की आड़ दुराचारियों की करतूतों के लिए मुफीद जगह बनती जा रही है। एक के बाद एक मामले प्रकाश में आ रहे हैं मंदिर का इस्तेमाल दुराचार के लिए हुआ अथवा पुजारी ने दुराचार किया। इसके बावजूद भी लोंगो की आंखों पर धर्म के झूठ का चश्मा चढ़ा हुआ है। दूसरी सप्रदाय विशेष की राजनीति करने वाले ठेकेदार इन दुराचारियों से भी कईं कदम आगे हैं जो तिरंगा लेकर इन दुराचारियों के पक्ष में सड़कों पर उतर रहे हैं। ऐसा ही एक अन्य मामला राजस्थान के अजमेर में एक पुजारी का सामने आया है जिसमें पुजारी ने सात वर्ष की एक अबोध बच्ची को अपना शिकार बनाने की कोशिश की।

बच्ची के पिता ने उसे यह हरकत करते देख लिया और उसे पुलिस के हवाले कर दिया। पुलिस ने पॉक्सो कानून के तहत मामला दर्ज किया है। यह घटना अजमेर के अलवर गेट थाना इलाके में हुई। इस मामले में पुलिस ने गुरुवार को सदानंद बाबा उर्फ बलबीर को गिरफ्तार कर लिया है।

थानाधिकारी हरपाल सिंह के अनुसार बाबा सदानन्द के खिलाफ बुधवार को पीड़िता के पिता ने रिपोर्ट दी थी। यह बाबा सदानन्द अजमेर में 40 साल से रह रहा है और यहां के बालाजी मंदिर में पुजारी है।

बुधवार को पीड़िता का पिता मंदिर आया था। पिता दर्शन करने चला गया और बच्ची नीचे ही रह गई। इतने में ही बाबा बच्ची को अपने कमरे में ले गया। पिता ने बाहर आकर बच्ची को तलाशा तो देखा पुजारी कमरे में बच्ची के साथ आपत्तिजनक स्थिति में था। पिता ने पहले तो इसकी जमकर पिटाई की, फिर पुलिस को सौंप दिया। पुलिस मामले की जांच कर रही है।