बिहार दंगा के विरोध में देश के कई सामाजिक संगठनों ने किया बिहार भवन का घेराव

आईएनएन भारत डेस्क
नई दिल्ली। हाल ही में हुए बिहार दंगे के विरोध में देश के कई सामाजिक संगठनों और विभिन्न विश्वविद्यालय के छात्रों ने बिहार भवन का घेराव किया। महागठबंधन से अलग हो कर, नीतीश कुमार ने भाजपा के साथ सरकार बनाई हैं। जब से जदयू और भाजपा गठबंधन की सरकार बिहार में बनी हैं। तब से बिहार को दंगा में झोकने की हर संभव कोशिश की जा रही है। हाली ही में भागलपुर, समस्तीपुर, औरंगाबाद में हुए साम्प्रादायिक दंगों के विरोध नीतीश सरकार के खिलाफ बिहार भवन का घेराव विभिन्न संगठन और छात्रों ने किया।

इस घेराव प्रदर्शन में बिहार डेवलपमेंट, ऑल इंडिया मंजलीस ए मुस्लिम मुशावरत, ऑल इंडिया तंजिम ए इंसाफ, एडका, ऑल इंडिया मुस्लिम काउंसिल, अनहद, AISF, AISA, DSA, DU, JNU, JMI आदि संगठनो के लोग मौजूद रहे। इस अवसर पर पूर्व राज्यसभा सांसद अली अनवर अंसारी ने कहा भारत की एकता और धर्म निरपेक्षता खतरे में है।

केन्द्र सरकार 2019 के चुनाव को सामने रखकर धार्मिक उन्माद फैला रही है। बिहार इसका उदाहरण हैं अली अनवर ने कहा बिहार की जनता ने संयम बरत कर अपनी एकता और अखंडता का प्रमाण दिया। वही बिहार प्रशासन स्थिति को नियंत्रित करने में निकम्मी साबित हुई है। नीतीश मार को एकतरफा कार्यवाही नही करनी चाहिए, जो भी दोषी हो उसे कड़ी से कड़ी सज़ा दी जानी चाहिए। सभा को संबोधित करते हुए ऑल इंडिया मजलिस ए मुस्लिम मुशावरत के अध्यक्ष नावेद हामिद ने कहा बिहार सरकार को चाहिए कानून व्यवस्था बनाये रखे और दोषियो पर सख्त से सख्त कार्यवाही करे। इस मौके पर माले कि कविता कृष्णन वरिष्ठ समाजसेवी शबनम हाशमी, ऑल इंडिया तंजीमे इंसाफ से मुस्लिम मोहम्मद, जबीं शम्स निज़ामी,ऑल इंडिया मिल्ली काउंसिल से डा. शकीलुर रहमान, समाजसेवी शफीउर रहमान, टी.एम.जियाउल हक, क़ासीम रसूल इलियास आदि लोग मौजूद थे।