अखिलेश सरकार की बनाई एलिवेटेड रोड का मुख्यमंत्री अजय सिंह बिष्ट ने किया उद्घाटन

आईएनएन भारत डेस्क:
अखिलेश यादव की सपा सरकार द्वारा 1171 करोड़ की लागत से बनाये गये ऐलिवेटेड रोड के उद्घाटन करने का समय यूपी के मुख्यमंत्री अजय सिंह बिष्ट (योगी आदित्यनाथ) ने आखिर निकाल ही लिया। पिछले दिनों एक टीवी वार्ता में यूपी के पुर्व मुख्यमंत्री और सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने साफ किया था कि गाजियाबाद के इस रोड़ को उनकी सरकार ने बनावाया था और चुनावों के कारण और समयाभाव में वह इसका उद्घाटन नही कर पाये थे। परंतु यूपी काी मौजूदा सरकार जानबूझकर इस रोड के उद्घाटन को एक साल से भी लंबे समय से टाल रही है। जिससे कि इसे अपनी उपलब्धि बताकर इसके निर्माण को अपने खाते में दर्ज करवाया जा सके।

हालांकि अखिलेश यादव की इस वार्ता के बाद सपा के स्थानीय कार्यकर्ताओं और स्थानीय एमएलसी राकेश यादव ने आकर स्वयं इस रोड़ का उद्घाटन करके और नारियल फोडकर इस पर गाड़िया दौडायी थी। जिस घटना पर यूपी सरकार और स्थानीय प्रशासन ने बड़ा बवाल मचाते हुए उक्त एमएलसी और कुछ सपा कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार भी किया था और उन पर मुकदमें भी दर्ज किये थे। बाद में स्थानीय पुलिस ने सड़क को फिर बंद कर दिया था।

बहरहाल, अब एक साल से अधिक बीत जाने और पूरा मामला उजागर हो जाने पर यूपी के मुख्यमंत्री और प्रशासन की नींद टूटी और इस ऐलिवेटेड रोड़ का उद्घाटन हो सका। सरकार गाजियाबाद में यूपी गेट से राजनगर एक्सटेंशन तक छह लेन वाली यह एलिवेटेड रोड 10.30 किलोमीटर लंबी है और यह एलिवेटिड सड़क दिल्ली से मेरठ, मुरादनगर और मोदीनगर को जोड़ेगा। एक पिलर पर बनने वाली यह देश की सबसे बड़ी एलिवेटेड सड़कों में से एक हैं।

इस सड़क से नेशनल हाइवे 24 से एनएच 58 पहुंचना भी आसान हो सकेगा। माना जा रहा है कि इस एलिवेटिड रोड से प्रतिघंटा 4,000 गाड़ियां गुजरेंगी। साथ ही गाजियाबाद से दिल्ली जाने और वापस आने के लिए यह रोड काफी उपयोगी होगी। सरकार द्वारा कहा जा रहा है कि पर्यावरण संबंधी बाधाओं के चलते भी यह मामला अटका रहा था। इस रोड पर ट्रक और बस जैसे भारी वाहन नहीं चल सकेंगे। साइकल, बाइक और कारों के इस्तेमाल के लिए इसे बनाया गया है। सड़क के दोनों छोरों पर भारी वाहनों के प्रवेश को रोकने के लिए बैरियर लगाए गए हैं।