चन्द्र बाबू नायडू ने अमित शाह के खत को बताया झूठ का पुलिंदा

आईएनएन भारत डेस्क
भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के पत्र का जवाब देते हुए भाजपा के पुराने सहयोगी चन्द्रबाबू नायडू ने अमित शाह पर धावा बोलते हुए कहा कि उनका पत्र झूठ का पुलिंदा है। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के खुले खत पर सवाल उठाते हुए नायडू ने पूछा कि पता नही शाह झूठ क्यों फैला रहे हैं। अपने पत्र में भाजपा अध्यक्ष ने लिखा था कि एन चंद्रबाबू नायडू का एनडीए छोड़ने का फैसला दुर्भाग्यपूर्ण और एकतरफा है।

आंध्र प्रदेश विधानसभा में मुख्यमंत्री नायडू ने शनिवार को कहा कि अपने पत्र में अमित शाह ने कहा कि केंद्र ने राज्य को कई फंड दिए, लेकिन हम उनका इस्तेमाल नहीं कर सके। वे कहना चाह रहे हैं कि आंध्रप्रदेश सरकार सक्षम नहीं है। हमारी सरकार में राज्य की जीडीपी अच्छी है, कृषि और अन्य क्षेत्रों में हमें कई राष्ट्रीय अवॉर्ड मिले है। ये हमारी क्षमता है उन्होंने अमित शाह से पूछा आप झूठ क्यों फैला रहे हैं।

शाह पर जोरदार हमला बोलते हुए नायडू ने कहा कि अमित शाह का खुला खत झूठ का पुलिंदा है और इससे भाजपा की नीयत साफ पता चलती है। केंद्र सरकार उत्तर पूर्वी राज्यों को अब तक विशेष दर्जा देती है, यह अगर आंध्रप्रदेश के साथ किया गया होता तो राज्य में कई उद्योग आ चुके होते।

आंध्रप्रदेश के बंटवारे का भाजपा को जिम्मेदार ठहराते हुए नायडू ने कहा कि शाह की पार्टी ने पर्दे के पीछे से बंटवारे का समर्थन किया। प्रदेश का बंटवारा अवैज्ञानिक तरीके से हुआ जिसके चलते हम 10 साल पीछे चले गए। इसके लिए केंद्र सरकार जिम्मेदार है। नायडू ने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि आप हमारे समस्याओं के प्रति संवेदनशील होने का दावा करते हैं लेकिन हकीकत यह है कि बंद दरवाजों के पीछे 20 मिनट के अंदर बंटवारे के बिल को पास करने में आपकी बराबर की भूमिका रही है। आपने केन्द्र सरकार के साथ मिलकर 20 मिनट में हमारे भाग्य को बदल दिया था।

अपने खुले खत में अमित शाह ने लिखा था कि एनडीए से अलग होने का नायडू का फैसला पूरी तरह राजनीति से प्रेरित है और यह एकतरफा और दुर्भाग्यपूर्ण है इसमें प्रदेश के विकास को दरकिनार किया गया है। इसी पत्र के जवाब में नायडू ने अमित शाह पर हमला बोलते हुए उनके खत को झूठ का पुलिंदा तक कह डाला।