यूपी में जनता के वोट से हारी भाजपा में तिकड़म की जीत का जश्न

आईएनएन भारत डेस्क
यूपी में जनता के वोट से हारी भाजपा ने जोड़तोड़ करके हासिल की सीट से अपनी शर्मिंदगी छुपाने और इसे सपा, बसपा दोस्ती की हार बताने का प्रयास किया। यूपी में सपा के एक और बसपा के एक विधायक को जेल से वोट डालने आने का मौका नही दिया गया जबकि झारखण्ड़ में जेल में बंद विधायक वोट डालने का अधिकार पा गये। भाजपा द्वारा कराई गई क्रॉस वोटिंग और तमाम गड़बड़ियों के आरोपों के बीच बीएसपी के प्रत्याशी, भीमराव अंबेडकर राज्यसभा नहीं जा पाए।

भाजपा के लिए सपा और बसपा की दोस्ती किस कदर तकलीफदेह है यह चुनाव परिणाम आ जाने के बाद योगी के बयान से जाहिर हो जाता है। उन्हें उस समय भी अपनी जीत से ज्यादा सपा-बसपा की दोस्ती का मलाल था और उन्होंने अपने बयान से उसमें दरार डालने की भी कोशिश की। हालांकि बसपा महासचिव सतीश मिश्रा ने कहा कि उन्हें सपा और कांग्रेस के पूरे वोट मिले परंतु यह भाजपा की गडबड़ी और तिकड़मबाजी के हारे हैं। उन्होंने सपा और कांग्रेस के प्रदर्शन और साथ पर संतोष जाहिर किया।

राज्यसभा की 58 सीटों के लिए शुक्रवार को मतदान हुआ। उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल, कर्नाटक, झारखंड, छत्तीसगढ़ और तेलंगाना में मतदान हुआ।

राज्यसभा में अभी 245 सदस्य हैं। इनमें से 233 चुने जाते हैं और 12 नामांकित होते हैं। बहुमत के लिए कुल 126 सदस्यों की जरूरत होती है। बीजेपी ने कुल 28 सीटों पर जीत दर्ज की जबकि कांग्रेस ने 10 सीटें हासिल की हैं।

पश्चिम बंगाल की 5 सीटों में से टीएमसी के 4 उम्मीदवार शुभाषिश चक्रवर्ती, अबीर बिश्वास, शांतनु सेन और नदीमुल हक ने जीत हासिल की जबकि 1 सीट पर टीएमसी की मदद से कांग्रेस उम्मीवार अभिषेक मनु सिंघवी को जीत मिली है। बता दें कि ममता बनर्जी ने अभिषेक मनू सिंघवी के नाम को तरजीह देते हुए उन्हें समर्थन का वादा किया था।

छत्तीसगढ से बीजेपी प्रत्याशी डॉ. सरोज पांडे का राज्यसभा के लिए निर्वाचन हुआ। उन्होंने कांग्रेस उम्मीदवार को हराया।
झारखंड में हुए चुनाव में एक-एक सीट बीजेपी और कांग्रेस के खाते में रही। बीजेपी के समीर उरांव और कांग्रेस के धीरज साहू ने जीत दर्ज की। समीर उरांव की जीत पहले से ही पक्की थी, जबकि धीरज साहू ने मात्र प्वाइंट वन से जीत हासिल की, उन्हें 26 वोट पड़े।

केरल एकमात्र सीट पर एलडीएफ और यूडीएफ के बीच मुकाबला था। चुनाव में एलडीएफ उम्मीदवार को जीत मिली। इस सीट पर जदयू शरद गुट के एमपी विरेन्द्र कुमार ने जीत हासिल की है। ध्यान रहे यह सीट उनके इस्तीफे से ही खाली हुई थी।

तेलंगाना की तीन राज्यसभा सीटों के लिए 4 उम्मीदवार मैदान में थे। सत्ताधारी तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के उम्मीदवार जे संतोष कुमार, बी लिंगैया यादव और बी प्रकाश ने जीत दर्ज की। कांग्रेस के उम्मीदवार को हार का सामना करना पड़ा।

कर्नाटक की चार राज्यसभा सीटों में से तीन में कांग्रेस और एक में बीजेपी को जीत मिली। इन चार राज्यसभा सीटों के लिए पांच प्रत्याशी मैदान में थे। चार सीटों पर कांग्रेस ने 3, बीजेपी और जेडीएस ने एक-एक उम्मीदवार मैदान में उतारे थे। बीजेपी की ओर से राजीव चंद्रशेखर और कांग्रेस की ओर से एल हनुमानथा, नसीर हुसैन, जीसी चंद्रशेखर जीते।