फेसबुक के डाटा लीक पर बवाल, भाजपा कांग्रेस के एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप

आईएनएन भारत डेस्क
नई दिल्लीः फेसबुक के डेटा लीक होने की खबर ने देशभर में तूफान खड़ा कर दिया है। जब ये खबर भारत पहुंची कि फेसबुक के 5 करोड़ यूजर्स के डेटा लीक हो गये हैं। भारत में भी राजनीतिक हलकों में तूफान उठ खड़ा हुआ। इस डेटा लीक के लिए जिम्मेदार कंपनी कैंब्रिज एनालिटिका के बारे में कहा जा रहा है कि उसे भारत में भी चुनावों से जोड़ने की तैयारी है।

बता दें कि कैंब्रिज एनालिटिका ट्रंप के चुनाव प्रचार में शामिल रही है और ब्रेग्जिट के समय यूरोपियन यूनियन छोड़ने की मुहिम में भी। खबर की माने तो  इस कंपनी के बारे में बताया जा रहा है कि 2019 में उसे भारत में भी उतारने की तैयारी है। बीजेपी ने कैंब्रिज एनालिटिका से कांग्रेस के रिश्ते का आरोप लगाया।

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने इसके थोड़ी देर बाद ही पलटवार किया। कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि कैंब्रिज एनालिटिका से हमारा कोई लेना देना नहीं है। इसका इस्तेमाल तो दरअसल बीजेपी ने ही किया है। कांग्रेस का आरोप है कि 2010 बिहार विधानसभा चुनाव समेत चार राज्य चुनावों में इस कंपनी की सेवाएं ली गई थीं।

गौर करने वाली बात हैं कि भारत ने बुधवार को फेसबुक को आगाह किया कि यदि उसने देश की चुनाव प्रक्रिया को किसी भी अवांछित तरीके से प्रभावित करने का प्रयास किया तो उसे कड़ी कार्रवाई का सामना करना पड़ेगा। अमेरिका के नियामक द्वारा भी फेसबुक के खिलाफ प्रयोगकर्ताओं की गोपनीयता के संभावित उल्लंघन की जांच की जा रही है।

केंद्रीय सूचना प्रौद्योगिकी और कानून मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने कहा कि सरकार प्रेस, भाषण और अभिव्यक्ति की आजादी का पूरा समर्थन करती है। साथ ही वह सोशल मीडिया पर विचारों के आदान प्रदान के पक्ष में भी है। संवाददाताओं से बातचीत में रवि शंकर प्रसाद ने कहा कि फेसबुक सहित कोई भी सोशल मीडिया साइट यदि अवांछित तरीके से देश की चुनाव प्रक्रिया को प्रभावित करने का प्रयास करती है, तो उसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। जरूरत होने पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

उधर कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने भाजपा पर हमला बोलते हुए दावा किया है कि कैंब्रिज एनालिटिका की सेवाएं बीजेपी ने ली थी, कांग्रेस ने नहीं। भाजपा पर पहले भी अपने राजनीतिक फायदे के लिए सोशल मीड़िया के इस्तेमाल के आरोप लगते रहे हैं।