सीलिंग पर दिल्ली के व्यापारियों को मूर्ख बना रही है भाजपा और केन्द्र सरकार

आईएनएन भारत डेस्क:
नई दिल्लीः शनिवार 17 मार्च को एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए केन्द्रीय शहरी विकास मंत्री ने जिस प्रकार सीलिंग का समर्थन किया उससे जाहिर हो गया कि सीलिंग के सवाल पर केन्द्र सरकार और भाजपा की कथनी और करनी में अंतर है।

शनिवार को संवाददाता सम्मेलन में केन्द्रीय शहरी विकास मंत्री हरदीप सिंह पुरी तरह से खुलकर सीलिंग के समर्थन में आ गये और उन्होंने दावा किया कि सीलिंग की कर्रवाई दिल्ली के बेहतर भविष्य की पहल है। सााथ ही उन्होंने यह भी कहा कि राजधानी को विश्वस्तरीय शहर बनाने के लिए कड़े फैसले लेने पड़ेंगे।

शहरी विकास मंत्री ने केवल सीलिंग का समर्थन ही नही किया बल्कि विपक्ष पर हमला बोलते हुए यहां तक कह दिया कि सीलिंग पर राजनीतिक दल औछी सियासत कर रहे हैं। उन्होंने सुप्रीम कोर्ट के निर्णय का बचाव करते हुए कहा कि राजनीतिक संरक्षण में की गई गलतियों को सुधारने के लिए सुप्रीम कोर्ट को सीलिंग जैसा कठोर उपाय करना पड़ा है। उन्होंने दोहराया कि हमारा लक्ष्य दिल्ली को रहने लायक विश्वस्तरीय शहर बनाने का है। उन्होंने यह भी कहा कि सरकार दिल्ली को विश्वस्तरीय शहर बनाने की अपनी प्रतिबद्धता पर कायम है।

एक तरफ जहां शहरी विकास मंत्री दिल्ली को विश्वस्तरीय शहर बनाने की प्रतिबद्धता दिखाते हुए सीलिंग के समर्थन में उतर आये हैं तो वहीं दूसरी तरफ भाजपा के स्थानीय नेता अभी भी सीलिंग से राहत दिलवाने का राग अलाप रहे हैं। इसी कड़ी में दिल्ली भाजपा के नेता जगदीश ममगई ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर सीलिंग पर सरकार द्वारा उठाये जा रहे कदमों पर चिंता जाहिर की। इससे साफ है कि एक तरफ सरकार सीलिंग करवाने पर अमादा है तो दूसरी तरफ भाजपा नेता पत्र व्यवहार करके चिंता जाहिर करने का दिखावा कर रहे हैं और दिल्ली के व्यापारी उनके विरोध के जाल में उलझकर मूर्ख बन रहे हैं। रोजगार देने के वादे करके लोंगो को नोटबंदी और जीएसटी से बेवकूफ बनाने वाली सरकार अब सीलिंग से लोंगो के व्यापार खत्म करके उन्हें बेरोजगार बनाने पर अमादा है। दिल्ली के व्यापारी अजीब तरह की ठगी का शिकार हो रहे हैं।