टविटर पर मोदी के 60 प्रतिशत फाॅलोवर्स फर्जी

आईएनएन भारत डेस्क
नई दिल्लीः मोदी भक्तों के लिए यह खबर हैरान करने वाली हो अथवा नही परेशान करने वाली जरूर है कि टवीटर पर उनके फाॅलोवर्स में से 60 प्रतिशत के फर्जी एकाउंट है। अभी तक मोदी समर्थकों के लिए यह सबसे गर्व की बात होती थी कि सोशल मीड़िया पर मोदी को फाॅलो करने वालो की संख्या दुनिया में सबसे ज्यादा है। परंतु हाल ही में एक अन्तर्राष्ट्रीय एजेंसी टवीप्लोमेसी के द्वारा कराये गये एक सर्वे में यह सत्य उजागर हुआ कि मोदी के फाॅलोवर्स की संख्या 60 प्रतिशत फर्जी  है।

एक डिजीटल प्लेटफार्म टवीप्लोमेसी के द्वारा कराये गये सर्वें यह साफ हुआ कि मोदी के कुल 40993053 फाॅलोवर्स में से 24799527 फाॅलोवर्स के एकाउंट फर्जी हैं। बता दें कि अन्तर्राष्ट्रीय संगठन टवीप्लोमेसी की सहायता दुनिया की सरकारें अपनी डिजीटल सुविधाओं को प्रोन्नत और प्रोत्साहित करने के लिए लेती हैं। इस सर्वें में बताया गया कि मोदी के फाॅलोवर्स में से केवल 16191426 ही असली हैं। टवीप्लोमेसी ने दुनिया के तमाम सेलिब्रिटीज और गणमान्य लोगों के सोशल मीड़िया की लोकप्रियता की मौलिकता पर यह सर्वे किया था। इसमें जहां मोदी के 60 प्रतिशत फाॅलोवर्स फर्जी हैं तो वहीं ट्रंप के 37 प्रतिशत फाॅलोवर्स फर्जी हैं।

सोशल मीड़िया पर फाॅलोवर्स की संख्या बढ़ाकर दिखाने और अपने आप को सबसे लोकप्रिय बताने का एक गजब का कारोबार दुनिया भर में चल रहा है। इसमें सेलिब्रिटीज और नेता स्वयं फाॅलोवर्स की संख्या बढ़वाने के लिए इस कारोबार का उपयोग करते हैं। बता दें कि आॅनलाइन कमाई के तरीकों में एक तरीका यह भी है कि आप घर बैठे इस तरह के एकाउंट बनाकर और झूठे प्रमोशन कमेंट लिखकर अथवा झूठे लाइक करके पैसे कमा सकते हैं। दुनिया के कई नेता अक्सर इस प्रकार के गड़बड़झाले का सहारा अपनी लोकप्रियता को बढ़ा चढ़ाकर और अपने समर्थकों को अतिरिक्त उन्माद से भरने के लिए लेते हैं।