किसानों का लांग मार्च मुम्बई पहुंचा, सोमवार को विधानसभा घेराव की तैयारी

आईएनएन भारत डेस्क:
मुम्बई। नासिक से 5 मार्च को शुरू हुआ किसान लांग मार्च 180 किलोमीटर का अखिल भारतीय किसान सभा के 35 हजार किसानों का जत्था आखिरकार मुम्बई पहुंच ही गया। भाजपा को छोड़कर किसानों के मोर्चे को सभी राजनीतिक दलों ने अपना समर्थन दिया है।

इसके अलावा नासिक से मुम्बई के रास्ते में भी किसानों के लांग मार्च को आम लोगों का खासा समर्थन मिल रहा है। लोग अपने अपने तरीके से किसान मार्च का स्वागत कर रहे हैं। कोई उन्हें लाकर गुलाब भेंट कर रहा है तो कोई उनके पेयजल और अन्य जरूरतों के सामान मुहैया करा रहा है। विभिन्न पेशों से जुड़े आम लोग आकर इस जत्थे में शामिल किसान नेताओं को अपनी दुख तकलीफ भी बता रहे हैं।

लांग मार्च में शामिल किसानों की मांग बिना शर्त संपूर्ण कर्ज माफी, स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों को लागू करना, सिंचाई व्यवस्था का इंतजाम, बिजली बिल माफी, वन कानून के अनुसार जमीन के अधिकार किसानों को देना और हाइवे के नाम पर खेती की जमीनों का अधिग्रहण रोकने आदि हैं।

किसानों के इस जत्थे ने 5 मार्च को 180 किलोमीटर की यात्रा के लिए सेंट्रल नासिक के सीबीएस चैक से कूच शुरू किया था। हर रोज 30 किलोमीटर पदयात्रा करते इन किसानों की योजना 12 मार्च को मुंबई में महाराष्ट्र विधानसभा घेरने की है।

अभी तक सरकार में शामिल शिवसेना के मन्त्रियों से लेकर शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे भी किसानों से मिलने पहुंचे। जब आदित्य ठाकरे किसानों से मिलने पहुंचे तो किसानों ने उन्हें लाल सलाम ठोका। बताया जा रहा है कि किसानों का 10 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल सोमवार को राज्य के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फणनवीस से मिलने वाला है।