कांग्रेस ने मोदी पर बोला हमला बताया घोटाले रोकने में नाकाम दुनिया का सबसे मंहगा चैकीदार

आईएनएन भारत डेस्क
कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने शनिवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दुनिया का सबसे महंगा चैकीदार बताया। सिब्बल ने कहा, पीएम मोदी यूपीए सरकार के दौरान भ्रष्टाचार के कई आरोप लगाते रहे। उसी में 176 लाख करोड़ का 2जी स्पेक्ट्रम का सीएजी द्वारा गढ़ा गया अनुमानित घोटाले का आरोप भी है। उस अनुमानित घोटाले पर मोदी शोर मचाते रहे जबकि बैंक घोटालों पर वे चुप हैं जोकि देश का असली नुकसान है।

मोदी के शुक्रवार को दिये भाषण पर कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने कहा कि कई दिनों की खामोशी के बाद पीएम मोदी ने शुक्रवार को कहा कि सारे घोटालेबाज पकड़े जाएंगे और देश लाए जाएंगे। असल सवाल यह है कि आपके चैकीदार रहते ही घोटालेबाज देश छोड़ भाग कैसे रहे हैं?

मोदी पर निशाना साधते हुए कपिल सिब्बल ने कहा कि दुनिया के सबसे महंगे चैकीदार हैं प्रधानमंत्री मोदी। मंहगे आवास, मंहगी सुरक्षा और आलीशान हवाई यात्रा जैसी सुविधा लेते हुए ये चैकीदारी का काम करते हैं। तो क्या वो बताएंगे कि उनकी निगहबानी में बैंक घोटाला क्यों और कैसे हुआ?

390 करोड़ के एक नये बैंक घोटाले पर सवाल उठाने के दौरान कांग्रेस नेता ने यह बात कही। सीबीआई ने गुरुवार को दिल्ली के द्वारका दास सेठ इंटरनेशनल ज्वैलर के खिलाफ 390 करोड़ रुपए का बैंक फ्रॉड केस दर्ज किया है। इस बारे में सिब्बल ने कहा कि द्वारका दास के खिलाफ अगस्त 2017 में एक शिकायत दर्ज कराई गई थी लेकिन कमाल की बात है कि उस मामले में फरवरी 2018 में मुकदमा दर्ज हुआ।

ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स (ओबीसी) ने 16 अगस्त 2017 को द्वारका दास सेठ इंटरनेशनल ज्वैलर के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी। बैंक ने अपनी शिकायत में कहा था कि ज्वैलरी कंपनी के मालिक और उनके परिजनों का पिछले 10 महीने से कोई अता-पता नहीं है।

पंजाब नेशनल बैंक घोटाले के ठीक बाद ओबीसी में 390 करोड़ के इस घोटाले का पता चला है। घोटाले लगातार सामने आ रहे हैं और घोटालेबाज गायब हैं। शिकायत मिलने के बाद घोटालेबाजों को लगता है कि देश से भागने और गायब हो जाने का पूरा मौका मिल रहा है।

हाल फिलहाल घोटाले की कई खबरें आने के बाद केंद्र सरकार को लगातार किरकिरी का समाना करना पड़ रहा है। विजय माल्या के बाद नीरव मोदी का पीएनबी घोटाला और उसके बाद रोटोमैक घोटाला और अब द्वारका दास सेठ घोटाले ने सरकार को बैकफुट पर धकेल दिया है और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी फिर से नई जुमलेबाजी के साथ मैदान में उतरे हैं।