बिहार के शहीद जवानों को श्रद्धांजलि देने नहीं पहुचें नीतीश और बीजेपी के मंत्री, परिवार ने लौटाया चेक

आईएनएन भारत डेस्क:

पटना। कश्मीर में शहीद हुए बिहार के दो जवानों के अंतिम संस्कार में बिहार के सीएम नीतीश कुमार और उनकी सहयोगी भाजपा के कोई मंत्री या विधायक श्रद्धांजलि देने नहीं पहुंचे। बिहार सरकार के दोनों प्रमुख घटकों जदयू और भाजपा के किसी मंत्री नेता के नहीं पहुँचने पर लोगों में बहुत ज्यादा आक्रोश हैं।

पिछले दिनों आतंकी हमले में किशोर मुन्ना और भोजपुर जिले के मुजाहिद शहीद हुए थे।

बिहार के इन दोनों लाल के अंतिम संस्कार में हजारों लोग पहुंचे थे, मगर नीतीश सरकार से कोई भी मंत्री नहीं पहुंचा। वही विपक्ष में रहने वाली और हमेशा देशभक्ती का सर्टिफिकेट बांटने वाली भारतीय जनता पार्टी का भी कोई मंत्री और नेता अंतिम संस्कार में नहीं गया।

इसी क्रम में बुधवार को भोजपुर जिले के पीरो में जब मुजाहिद खान का पार्थिक शरीर पहुंचा तो पूरा माहौल ग़मगीन हो गया। मुजाहिद के अंतिम संस्कार में विधायक सुदामा प्रसाद के आलवा भाजपा का कोई भी नेता नहीं पहुंचा था। यहाँ तक कि केन्द्रीय मंत्री राजकुमार सिंह भी अंतिम संस्कार में नहीं पहुंचे थे।

शहीद जवान किशोर मुन्ना के गाँव वालों ने कहा कि कितने शर्म की बात हैं बिहार का लाल देश के लिए शहीद हुआ हैं और भाजपा-नीतीश सरकार से कोई मंत्री अंतिम संस्कार में नहीं पहुंचा। जिस देश के जवानों कि बात कर मोदीजी सत्ता में आएं, आज उसी जवानों के शहादत पर मोदीजी के मंत्री देखने तक नहीं आए।

इस बात को लेकर लोगों में ख़ासा गुस्सा हैं। गाँव के लोगों ने कहा कि किसान का बेटा देश के लिए शहीद होता हैं, मगर हमारे ही वोट से राज करने वाले हमेशा देशभक्ती कि बात करने वाले देश के लिए शहीद हुए जवान के अंतिम संस्कार में नहीं पहुंचे।