गन्ना किसानों के समस्या को लेकर राजद का बिहार सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन

आईएनएन भारत डेस्क:
नरकटियागंज, पटना : राज्य के भाजपा जदयू सरकार का गन्ना किसानो के लिए कोई स्पष्ट नीति नहीं होने के कारण गन्ना किसान उपेक्षा के शिकार हो रहे है,गन्ना उत्पादक किसान सरकार के रवैये से हताश और निराश है, राज्य सरकार गन्ना किसानो से ना लेकर विचौलियों के माध्यम से खरीद रही है,  जिसके कारण गन्ना किसान विचौलियों को सस्ते दाम पर गन्ना बेचने को मज़बूर  हैं। बिचौलियों और गन्ना मिल मालिक मिलकर किसानों से गन्ना सस्ते दाम पर खरीद कर मुनाफ़ा काम रहे हैं।

राष्ट्रीय जनता दल ( किसान सेल) के नेतृत्व में पश्चिम चंपारण जिले के गन्ना किसानों का एक दिवसीय धरना न्यू स्वदेश शुगर मिल, नरकटियागंज में हुई। इस धरना को संबोधित करते हुए जिला अध्यक्ष विनय यादव ने कहा कि  गन्ना मंत्री ख़ुर्शीद आलम और चीनी मिल मालिकों के सांठ-गांठ कर गन्ना किसानों का शोषण कर रहा हैं।  यादव ने गन्ना मंत्री पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि गन्ना मंत्री अपने रैकेट के जरिये गन्ना किसानों का गन्ना सस्ते दामो पर खरीद कर गन्ना मिल में सप्लाई करवा रहे हैं।  यादव ने नीतीश सरकार के ऊपर गन्ना किसानों की उपेक्षा करने का भी आरोप लगाया। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से गन्ना किसानों की समस्याओं पर ध्यान देने और समाधान करने की अपील की। साथ ही श्री यादव ने कहा कि अगर जल्द से जल्द गन्ना किसानों की समस्याओं का समाधान नहीं किया गया तो सड़कों पर संघर्ष होगा। सभा को कमलेश तिवारी, विजय यादव, भूपनारायण यादव, विश्वनाथ गिरी, राजकिशोर यादव, आस मुहम्मद सहित कई अन्य नेताओं ने भी संबोधित किया।

इस एकदिवसीय धरना के बाद राष्ट्रीय जनता दल ( किसान सेल) के नेतृत्व में नीतीश कुमार का पुतला दहन भी किया गया।

बता दें कि बिहार सरकार का आदेश के अनुसार 15 जनवरी 2018 तक खुट्टी गन्ना की आपूर्ति ले लेना था। परंतु अभी भी सैकड़ों एकड़ में खुट्टी गन्ना खेतों में ही पड़ा हुआ हैं। छोटे और मंझोले गन्ना किसान का खुट्टी गन्ना की आपूर्ति नहीं होने से, रबी फसल की बुआई नहीं कर पायी हैं। रबी फसल की बुआई समय पर नही होने से एक और फसल का मार छोटे और मंझोले किसानों को ही झेलना पड़ेगा।