UnitedAgainstHate की फैक्ट फाइंडिंग टीम कासगंज पहुंच गई

नई दिल्ली (आईएनएन भारत): कासगंज में हुई हिंसा के कारणों और परिणाम को देखते हुए समाज के बुद्धिजीवी और प्रगतिशील वर्ग के लोगों ने इसकी सत्यता को जानने के लिए एक टीम बनाई है। UnitedAgainstHate नाम से काम करने वाले एक समूह ने एक फैक्ट फाइंडिंग टीम का गठन समाज के कुछ बुद्धिजीवी और प्रगतिशील तबकों से किया है। इस टीम का नेतृत्व एस आर दारापुरी, रिटायर्ड पूर्व डीजीपी, उत्तर प्रदेश कर रहे है। इस टीम में वकील, प्रोफेसर, पत्रकार, सामजसेवी, छात्र नेता आदि शामिल हैं।

बता दें कि 26 जनवरी को हिंसक झड़प हुई थी। इसके बाद कासगंज में लगातार कई दिनों तक हिंसा होते रही। अब जाकर शांति स्थापित हुई है। 100 से ज्यादा लोग अभी भी हिरासत में है। इसी हिंसा में घायल , जिसके पैर में गोली लगी का कहना है कि उसके पैर पर पुलिस की  गोली लगी है और चंदन को भी गोली पुलिस फायरिंग में ही लगी है।

सचाई क्या है यह जानने के लिए गठित टीम कासगंज पहुच गई है। ये टीम इस प्रकार है:-

*एस आर दारापुरी, रिटायर्ड IPS पूर्व डीजीपी, उत्तर प्रदेश

* अमित सेनगुप्ता, पूर्व एडीटर, तहलका

* मोहम्मद असद हयात, सीनियर एडवोकेट

* राखी सहगल, ह्यूमन राइट एक्टिविस्ट

* मोहित कुमार पांडेय, पूर्व छात्र अध्यक्ष  जेएनयू छात्रसंघ

* बनोज्योत्सना लाहिरी, अस्सिटेंट प्रोफेसर & यूनाइटेड अगेंस्ट हेट

* अलीमुल्लाह खान, सीनियर जर्नलिस्ट

* हसनल बनन, जर्नलिस्ट

* खालिद सैफई, यूनाईटेड अगेंस्ट हेट

* शरीक हुसैन, यूनाइटेड अगेंस्ट हेट

* नदीम खान, यूनाइटेड अगेंस्ट हेट