स्कूल बस पर हमले में हुई गिरफ्तारियों को सांप्रदायिक रंग देने के लिए भगवा ब्रिगेड ने चलाया अभियान

आईएनएन भारत डेस्क:
गुरुग्राम: पद्मावत फ़िल्म के विरोध के दौरान कई जगहों पर हिंसा और आगजनी की घटनाएं हुई। गुरुग्राम में भी इस दौरान एक स्कूली बच्चों की बस पर भी करणी सेना के लोगों ने हमला किया था। इस हिंसा के बाद गुरुग्राम पुलिस ने कुछ हमलावरों को गिरफ़्तार किया।

करणी सेना के पदाधिकारी पहले इस वीडियो को पुराना वीडियो बात रहे थे। उसके बाद भगवा ब्रिगेड द्वारा, गुरुग्राम स्कूल बस पर हमले में गिरफ्तार लोगो को मुस्लिम बताया जाने लगा और इस घटना को हिन्दू-मुस्लिम का सांप्रदायिक रंग देने की कोशिश की जाने लगी। भगवा गिरोह पकड़े गए लोगो को मुस्लिम सिद्घ करने के लिए सोशल मीडिया पर अभियान छेड़े हुए है। यहां तक कि मीडिया में कई जाने माने भक्तों ने भी जोरदार हिस्सेदारी की है। मधु किश्वर ने तो बाकायदा पांच मुस्लिम नाम भी इस सिलसिले उछाल दिए थे। इस तरह अफवाह फैलाए जाने पर भी सरकार खामोश है और अफवाह फैलाने वालों के खिलाफ अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है। इससे इस मामले में भाजपा सरकार की भूमिका भी संदेहों के घेरे में है।

बतादें कि हिंसा की घटनाओं से जुड़े होने के आरोप में पुलिस ने गुरुग्राम करणी सेना के चीफ कुशलपाल को हिरासत में ले लिया है। वहीं, एक अन्य संगठन राजपूत करणी सेना के महासचिव सूरज पाल अम्मू को भी जमानत नहीं मिल सकी है। जमानत की प्रक्रिया उनके वकील के द्वारा की जा रही है। अम्मू के लिए वकीलों की तरफ से जो बेल बांड भरा गया उसकी जांच करने की बात कहकर पुलिस ने अम्मू को 29 जनवरी तक जेल भेज दिया।

सूरज पाल अम्मू को कल डीसीपी के सामने पेश किया गया। सेक्टर 56 थाने के अंदर से सूरज पाल अम्मू मीडिया के सामने चिल्लाकर कहने लगे की यह साजिश है। उन्होंने अपनी हत्या की आशंका जताई है। सूरज पाल अम्मू ने बताया कि उनके खिलाफ राजनीतिक साजिश रची गई है।