राहुल गांधी को गणतंत्र दिवस पर छठीं पंक्ति में मिली जगह, काँग्रेस नाराज

आईएनएन भारत डेस्क:
नई दिल्ली। पूरे भारत मे गणतंत्र दिवस को धूम-धाम से मनाया गया। इंडिया गेट पर  राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने तिरंगा फहराया और राष्ट्रगान के साथ सलामी दी। 69 वें गणतंत्र दिवस के उपलक्ष्य में आसियान में शामिल देशों थाईलैंड, वियतनाम, इंडोनेशिया, मलेशिया, फिलीपींस, सिंगापुर, म्यांमार, कंबोडिया, लाओस और ब्रूनेई के राष्ट्राध्यक्षों को मुख्य अतिथि के तौर पर आमंत्रित किया गया था। ये पहलीबार हुआ हैं कि एक साथ 10 राष्ट्र के राष्ट्राध्यक्ष गणतंत्र दिवस के साक्षी बने। इस दौरान पीएम मोदी, केंद्रीय मंत्री, लालकृष्ण आडवाणी, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी सहित कई बड़े नेता मौजूद रहे। परेड में कई राज्यों, मंत्रालयों सहित अन्य झांकियां राजपथ की शान बढ़ाई।

राजधानी दिल्ली के राजपथ में गणतंत्र दिवस परेड में राहुल गाँधी के बैठने को लेकर जो बवाल शुरू हुआ था वो आज भी जारी रहा। सूत्रों के अनुसार कहा जा रहा था कि राहुल गांधी चौथी पंक्ति में बैठेंगे मगर आज उन्हें छठी पंक्ति में बैठाया गया। जबकि परम्परा अनुसार रास्ट्रीय पार्टी काँग्रेस के अध्यक्ष होने के नाते उन्हें पहली या दूसरी पंक्ति में बैठाया जाना चाहिए था। इस बात को राहुल गांधी ने तूल न देते हुये छठी पंक्ति में बैठकर भी गणतंत्र दिवस का आनंद उठाया। परन्तु काँग्रेस ने इस पर अपनी नाराजगी जाहिर की है और मोदी सरकार पर ओछी राजनीति करने का आरोप लगाया है।

कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट करके कहा कि “इस सरकार की ओछी राजनीति जगजाहिर है”। कांग्रेस अध्यक्ष श्री राहुल गांधी को गणतंत्र दिवस के राष्ट्रीय पर्व पर अहंकारी शासकों ने सारी परंपराओं को दरकिनार कर के पहले चौथी पंक्ति और फिर छठी पंक्ति में जानबूझकर बिठाया। हमारे लिए संविधान का उत्सव ही सर्वप्रथम है। गणतंत्र दिवस परेड की जो तस्वीरें सामने आई उसमें राहुल गांधी, गुलाम नबी आजाद के साथ छठी पंक्ति में बैठे हुए दिखाई दिये। जिसकी पुष्टि रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट करके कर दी। वहीं बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह पहली पंक्ति में बैठे थे और स्मृति ईरानी भी राहुल गांधी से दो पंक्ति आगे बैठी थी। इससे पहले कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को पहली पंक्ति में बैठने की जगह मिलती थी। कांग्रेस इस बात को लेकर नाराज है कि राहुल गांधी कांग्रेस के अध्यक्ष हैं इस नाते उन्हें पहली पंक्ति में जगह मिलनी चाहिए थी।