क्या दूसरे हरेन पांड्या बन जायेंगे प्रवीण तोगड़िया?

आईएनएन भारत डेस्कः
नई दिल्ली। कल अचानक लापता हो गये और बाद में बेहोशी की हालत में मिले प्रवीण तोगड़िया आज प्रेस के सामने आए और सरकार पर गंभीर आरोप लगाए। प्रेस से बात करते हुए तोगड़िया ने बताया कि उनकी जान को खतरा है। साथ ही उन्होंने कहा, मेरी आवाज को दबाने की कोशिश की जा रही है। तोगड़िया ने कहा कि मुझे गुजरात पुलिस और राजस्थान पुलिस से कोई खतरा नहीं है। परंतु, मुझे और मेरे कार्यकर्ताओं को डराया जा रहा है।
प्रेस कांफ्रेन्स में उन्होंने आईबी सहित जांच एजेंसियों पर आरोप लगाते हुए अपने एनकाउंटर किये जाने की आशंका जताई। तोगड़िया ने 15 जनवरी को अचानक गायब हो जाने और बेहोशी की हालत में पाये जाने को अपने खिलाफ साजिश किये जाने और अंततः उन्हें खत्म किये जाने के षड़यंत्र से जोड़ते हुए कहा कि उनकी आवाज को दबाया जा रहा है। प्रवीण तोगड़िया प्रकरण से लगता है कि गुजरात हर विरोधी आवाज को दबा दिये जाने के अपने इतिहास को फिर दोहरा रहा है। गुजरात और देश के राजनीतिक हलकों में तोगड़िया प्रकरण को चर्चा गर्म हैं कि क्या तोगड़िया दूसरे हरेन पांड्या हो जायेंगे। क्या उनका भी वही हश्र होगा जो गुजरात के पूर्व गृह राज्यमंत्री हरेन पांड्या का हुआ था। ध्यान रहे कि गुजरात के पूर्व गृह मंत्री हरेन पांड्या 26 मार्च 2003 को अहमदाबाद के लाॅ गार्डन में मृत पाये गये थे और उनकी हत्या को लेकर उनके परिवार ने मोदी और शाह की जोड़ी पर आरोप लगाये थे। यहां तक कि हरेन पांड्या की पत्नी एवं उनके पिता ने उस समय के गृहमंत्री लालकृष्ण आडवाणी से इस मामले की जांच की गुहार लगाई थी।
बता दें सोमवार को श्रीगंगानगर पुलिस ने तोगड़िया के गिरफ्तारी के लिए वारंट जारी किया था। जिसके बाद से तोगड़िया लापता बताए जा रहे थे। उसके बाद गुजरात के कई शहरों में , उनके समर्थकों ने रोड जाम और प्रदर्शन किया। और तोगड़िया ने आज सबके सामने आकर प्रेस को सम्बोधित किया। ज्ञात हो कि राजस्थान, गुजरात और केंद्र सरकार सहित तीनों जगहों पर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की ही सरकार हैं।

खबरों के अनुसार काल तोगड़िया बेहोश पाए गए थे। जिन्हें हॉस्पिटल में एड्मिट कराया गया था। हॉस्पिटल में पाटीदार नेता हार्दिक पटेल और कांग्रेस नेता अर्जुन मोढ़वाडिया ने विश्व हिंदू परिषद नेता तोगड़िया से हॉस्पिटल में मुलाकात की।
प्रवीण तोगड़िया के 5 गंभीर आरोप :-
1. मेरी आवाज को दबाने का प्रयास किया जा रहा है। क्राइम ब्रांच किसी के दवाब में आकर काम कर रही हैं।
2. मेरे एनकाउंटर की साजिश रची रची जा रही हैं।
3. मैं कोई क्रिमिनल नही हूँ जो पुलिस इस तरीके से सर्च वारंट लेकर आ रही है। मैंने कोई अनुचित काम नही किया है।
4. मुझे गुजरात से डराने का काम किया जा रहा है और मुझ पर कई मुकदमे वहां दर्ज हैं। उन पुराने मुकदमे निकाले जा रहे हैं।
5. मैंने 10 हजार डॉक्टरों को तैयार किया है ताकि वह  गांव में चिकित्सा की जरूरतों को पूरा कर सके लेकिन आईबी के लोग उन डॉक्टरों के घर जाकर डराने का प्रयास कर रहे हैं।