गुजरात में दलित मेडिकल छात्र जातिगत भेदभाव का शिकार, किया आत्महत्या का प्रयास

आईएनएन भारत:
अहमदाबाद। जातिगत भेदभाव के तहत जिस तरह से हैदराबाद यूनिवर्सिटी के रिसर्च स्कॉलर रोहित वेमुला ने आत्महत्या की ठीक वैसा ही मामला अहमदाबाद में देखने को मिला। तमिलनाडु के रहने वाले मेडिकल छात्र ने 5 जनवरी को असारवा सिविल अस्पताल अहमदाबाद में आत्महत्या की कोशिश की। जिसके बाद छात्र को अहमदाबाद सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया। 2015 में दाखिला लिया मिरिराज ने इस आत्महत्या का कारण अनुसूचित जाति का होने के कारण भेदभाव करने का आरोप लगाया। छात्र ने कहा कि अनुसूचित जाति से होने के कारण, प्रोफ़ेसर और सहपाठी हीनभावना रखते हुए प्रताड़ित करते थे। इस सन्दर्भ में, कॉलेज प्रशासन से कई बार शिकायत की। मगर फिर भी कोई सुनवाई नहीं हुई। इसी वजह से आत्महत्या की कोशिश करनी पड़ी।
खबरों के मुताबिक़ छात्र ने अत्यधिक मात्रा में नींद की गोली खा कर आत्महत्या की कोशिश की थी। जबकि छात्र के विभाग के प्रमुख डॉ गुणवंत राठौर स्वयं अनुसूचित जाति से हैं। उन्होंने इस आरोप को सिरे से खारिज किया है।