जेल से डर नहीं, सामाजिक न्याय और समानता के लिए जान की भी परवाह नहीं: लालू यादव

आईएनएन भारत:
सी बी आई कोर्ट ने कई दिनों से लंबित फैसला सुनाते हुए राजद प्रमुख बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और सामाजिक न्याय के अथक योद्धा लालू प्रसाद यादव को साढ़े तीन साल की सजा सुनाई। इसके अलावा उन पर पांच लाख का जुर्माना भी लगा दिया। चार घोटाले में आए इस फैसले में लालू यादव के अलावा आज तीन आईएएस अधिकारियों को भी साढ़े तीन साल की सजा सुनाई गई।
इस सजा के सुनाए जाने के बाद भी लालू यादव के तेवर पहले की तरह सख्त और जुझारू थे। उन्होंने आज भी ब्राह्मणवादी साजिशों को ललकारते हुए लड़ाई को नई धार देने के अंदाज़ में कहा कि लालू सजा और जेल से नहीं डरता और सामाजिक न्याय और समानता के लिए लालू मार जाएगा हारेगा डरेगा नहीं। बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री को कई दिनों से सजा  इंतज़ार था और उनके समर्थक कई दिनों से हजारों हजार की संख्या में कोर्ट के बाहर जमा हो रहे थे। कई राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि लालू यादव को यह सजा लोकप्रियता के नए मुकाम तक ले जाएगी। लालू यादव की पार्टी के नेता लालू समर्थकों और जनवादी धर्मनिरपेक्ष तबकों में  संदेश को के जाने में सफल रहे है कि चारा घोटाले में सजा में पक्षपात हुआ है। बिहार और देशभर में चर्चा है कि एक ही मामले में जगन्नाथ मिश्रा बरी हो गए और लालू यादव जेल की सजा पा गए। जबकि लालू यादव के समय  है  मामले में एफआईआर दर्ज हुई थी और लालू यादव  ही चारा घोटाले की जांच के आदेश भी दिए थे। जगन्नाथ मिश्रा के बरी हो जाने के बाद कांग्रेस के पूर्व नेता के भाजपा से करीबी के किस्से भी चर्चा में है। ध्यान रहे जगन्नाथ मिश्रा के बेटे नीतिश मिश्रा २०१० से २०१५ तक भाजपा के कोटे से बिहार में मंत्री थे। इसके अलावा जगन्नाथ मिश्रा के एक भतीजे लोकसभा टीवी के सीइओ और एक भतीजे जदयू से विधायक है।  जगन्नाथ मिश्रा के इस भाजपा कनेक्शन की यह कहानियां बिहार और देश के लोगो के बीच चर्चा का विषय है। और इन्हीं मिश्रा और भाजपा कनेक्शन की कहानियों के बीच लालू यादव का बयान कि सजा और जेल से डर नहीं सामाजिक न्याय और समानता के लिए जान देना भी मंजूर, बेशक उनके संघर्ष को एक नए ऐतिहासिक मुकाम पर के जाएगा। लालू यादव बेशक जेल की सजा पा गए और उनका परिवार भी सत्ताधारी पार्टी के निशाने पर हो परन्तु अभी भी बिहार की राजनीति को निर्णायक मोड़ देने और उसे अंजाम तक पहुंचाने वाले नायक लालू यादव ही है।