कोरेगांव शौर्य दिवस पर भगवा हमला, सड़कों पर उतरे बहुजन, बुधवार को महाराष्ट्र बंद

मुम्बई में धारा 144 लागू की गई। बसों की आवाजाही पर असर पड़ा। कई लोकल ट्रेने भी बाधित। 
आईएनएन भारत डेस्क:
कोरेगांवः पुणे-अहमदनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर बसा कोरेगांव 1 जनवरी को भगवा आतंक का गवाह बन गया। 1 जनवरी 1818 को ब्राहमणवादी पेशवा सेना के 26 हजार सैनिकों को गाजर-मूली की तरह काटकर धूल में मिला देने वाले ब्रिटिश फौज की म्हार रेजीमेंट के 500 म्हार जवानों के शौर्य का प्रतीक भीमा कोरेगांव और कोरेगॉव  का शौर्य स्मारक अचानक भगवा ब्रिगेड की उपद्रवी हरकतों से फिर से जंग का मैदान बनता हुआ दिखाई पड़ रहा है। शौर्य दिवस के दो सौ साल होने पर विभिन्न बहुजन संगठनों ने भीमा कोरेगांव में एक विशाल रैली का आयोजन करके कोरेगांव में म्हार जवानों के शौर्य को याद करने का प्रयास किया था कि हजारों की तादाद में वहां पर पहले से ही एकत्र भगवा झण्ड़ा थामें उपद्रवी लोंगों ने बहुजन रैली पर हमला कर दिया। भगवा ब्रिगेड़ ने रैली पर पत्थराव किया, वाहनों में आग लगाई। कोरगांव के इस भगवा उत्पात में कम से कम 150 क्षतिग्रस्त हो गये, संपति को नुकसान हुआ, ढ़ेरों लोग घायल हुए और एक व्यक्ति की मौत हो गयी।
1 जनवरी को भीमा कोरेगांव रैली पर हुए इस भगवा हमले के बाद 2 जनवरी को बहजनों का गुस्सा फूट पड़ा और जगह जगह पर रैली और प्रदशनों की बाढ़ आ गई। मुम्बई राजमार्ग पर  प्रदर्शनकारियों ने जाम लगा दिया। कई जगहों पर मोर्चे निकाले गये।
-महाराष्ट्र के चैंबूर में सैंकड़ों की संख्या में प्रदर्शनकारी सड़कों पर उतर आये और बाजारों को बंद करवा दिया गया और सड़क मार्ग को बंद कर दिया गया।
-पूणे-अहमदनगर मार्ग पर बसों की आवाजाही ठप हो गयी है।
-मुम्बई के रमाबाई कालोनी, कामराज नगर, आचार्य गार्डन और अमर महल के रास्ते बंद हुए।
-जाम के कारण नवी मुम्बई से मुम्बई आने वाला ट्रेफिक पनवेल में फंसा।