आज स्वास्थ्य सेवाएं रहेगी ठप, डॉक्टर रहेंगे हड़ताल पर

आईएनएन भारत डेस्क:
नई दिल्ली। केंद्र सरकार आज नेशनल मेडिकल कमीशन बनाने के लिए संसद में प्रस्ताव पेश करेगी। इस प्रस्ताव के खिलाफ इंडियन मेडिकल एसोसिएशन से जुड़े देश भर के करीब 3 लाख डॉक्टर हड़ताल पर रहेंगे। डॉक्टरों का कहना है कि अगर यह बिल पास हो गया तो मेडिकल के इतिहास में काला दिन होगा। इसकी वजह से इलाज महंगा होगा और भ्रष्टाचार को बढ़ावा मिलेगा। बिल के लागू होते ही सरकार का शिकंजा निजी मेडिकल कॉलेजों पर मजबूत होगा।
नेशनल मेडिकल कमीशन बिल 2017 के प्रस्तावों से इंडियन मेडिकल कौंसिल को एतराज हैं। नये बिल के अनुसार प्राइवेट मेडिकल कॉलेजों में मैनेजमेंट को 60 % सीटों का फीस तय करने का अधिकार होगा जबकि अभी सिर्फ 15% सीटों का ही फीस मैनेजमेंट तय कर सकती है।
इसी प्रकार , अभी सभी राज्यों से 3 प्रतिनिधि होता है और कुल 130 सदस्य होते है। जबकि नये बिल पास हो जाने पर कुल 25 सदस्यों होंगे। जिनमे 29 राज्यों और 7 केंद्र शासित प्रदेशों से सिर्फ 5 सदस्य होंगे। एमबीबीएस करने के बाद सभी डॉक्टरों को प्रैक्टिस के लिए एक एग्जाम पास करना होगा। यह परीक्षा पहले सिर्फ विदेश से एमबीबीएस करने वालों को पास करना पड़ता था, जबकि नये बिल में इन्हें इस परीक्षा से छूट दे दी गई हैं।