मदरसे पर पुलिस की जॉइंट टीम छाप मार 51 छात्राओं को छुड़ाई

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के सआदतगंज इलाके के खदीजतुल कुबरा लिलबनात मदरसे पर शुक्रवार रात को यूपी पुलिस और प्रशासन की जॉइंट टीम ने छापा मारकर 51 छात्राओं को मुक्त कराया। पीड़ित छात्राओं ने मदरसे के  संचालक-प्रबंधक कारी तैय्यब जिया पर यौन शोषण व जान से मारने की धमकी देने जैसे गंभीर आरोप लगाया।
उत्तर प्रदेश पुलिस ने मदरसा प्रबंधक ज़िया पर मारपीट करने, जान से मारने की धमकी देने, जालसाजी देने के अलावा पॉस्को ऐक्ट और 7 सीएलए ऐक्ट में केस दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया है। बयान दर्ज करने के बाद छात्राओं को राजकीय बाल गृह (बालिका) भेज दिया गया है।
छात्रओं ने संदेश लिखकर कागज फेका
मदरसे के संस्थापक सैयद मोहम्मद जिलानी अशरफ ने बताया कि छात्राओं ने कागज के टुकड़े पर अपनी व्यथा लिखी और उसे मदरसे की छत से फेंका। कागज पाकर मोहल्ले वालों ने अशरफ को मामले की जानकारी दी।
छात्राओं ने कागज पर लिखा था कि तैय्यब जिया व उसके चार साथी उनका यौन शोषण करते थे। विरोध करने पर उन्हें असलहे दिखाकर जान से मारने की धमकी देते थे।
 मोहम्मद जिलानी इस कागज़ को लेकर सआदतगंज कोतवाली पहुंचे और अर्जी दी, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। इसके बाद वह सीओ बाजारखाला के पास पहुँचे। और पूरे वाक़िये के बारे में बताया।
सीओ के निर्देश के बाद सआदतगंज पुलिस हरकत में आयी और एफ़आईआर दर्ज  किया। पुलिस व प्रशासन के एक  टीम ने महिला पुलिसकर्मियों के साथ मदरसे में छापा मारकर बंधक बनाई गईं 51 छात्राओं को मुक्त करवाया।