गो रक्षा और लव जेहाद में हो रही हत्याओं के खिलाफ गुजरात में चलेगा जन आन्दोलन

आईएनएन भारत डेस्क:

अहमदाबाद: देश में गो रक्षा और लव जिहाद के नाम पर हो रही हत्याएं दिन प्रति दिन बढ़ रही हैं.ऐसा पहली बार नहीं हो रहा हैं. इनका भी अपना एक इतिहास रहा है लेकिन 2014 के बाद या फिर यह कहूँ कि नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद से इस तरह की हत्याओं की घटनाओं में जबरदस्त वृद्धि हुई है, और बड़े विद्वानों के विश्लेषणों को भी पढ़ा जाए तो यह साबित हो जाएगा कि यह हत्याएं क्यो हो रही है क्योंकि हत्याओं के पीछे का विशेष मक़सद भारत के संविधान को बदलना हैं और इन हत्यारो को पूरी तरह से सत्ता पक्ष का समर्थन हासिल है और इसकी पुष्टि करते हुए भाजपा के सांसद और नेता अनंत कुमार हेगड़े ने संघ के एजेंडे को खुलेआम कह दिया है कि भाजपा सत्ता में आई है. संविधान बदलने के लिए.

खास कर जिस तरह से राजसमंद में माल्दा बंगाल के एक मजदूर अफ़राज़ूल को लव जिहाद के नाम पर जिंदा जला कर मार डाला और हत्यारे ने जिस तरह से वीडियो बना कर संविधान को चैलेंज किया है वह एक सभ्य समाज के लिए बहुत ही खतरनाक है और यह चैलेंज मुसलमानों को नही है बल्कि संविधान में यकीन रखने वाले लोगों को है।

अफ़राज़ूल की हत्या के बाद जिस तरह से उदयपुर में नाथूराम गोडसे के वंशजों ने आतंक मचाया था वो न्याय तंत्र के खिलाफ भी एक खुला चैलेंज है इसी न्याय तंत्र से लोगो को उम्मीद होती है की वो संविधान का पूरी तरह से पालन करवाएंगे लेकिन उस न्यायलय पर चढ़ कर तिरंगा झंडा निकाल कर भगवा झंडा गोडसे के वंशज ने लगा दिया।

इसलिए देश मे यह गोडसे के वंशज जो निर्दोष मुसलमानों का कत्ले आम कर रहे है वो इस तरह पूरे देश को चैलेंज कर रहे हैं।

इस तरह की हत्याएं रोकने के लिए अहमदाबाद में गुजरात जन आन्दोलन के नाम से संविधान बचाओं देश बचाओं का नारा देते हुए 6 जनवरी 2018 को अहमदाबाद के लाल दरवाजा के पास विशाल धरना प्रदर्शन किया जायेगा. इस बात की जानकारी सामाजिक कार्यकर्ता और हाईकोर्ट के वकील शमशाद पठान ने दी. पठान ने कहा की चलो सरदार बाग अखलाक, जुनैद पहलू खान,अयूब, अफ़राज़ूल और न जाने कितने निर्दोष लोगों की हत्याओं के लिए न्याय माँगने.