मनी  लॉन्ड्रिंग मामले  में मीसा भारती के खिलाफ ईडी ने आरोपपत्र दाखिल किए

नई दिल्ली। मनी लॉन्ड्रिंग मामले को लेकर आज प्रवर्तन निदेशालय (ई डी) ने राष्ट्रीय जनता दल के अध्यक्ष लालू प्रसाद की बेटी मीसा भारती और उनके पति शैलेश कुमार के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किया है। जांच एजेंसी ने मनी लॉन्ड्रिंग जांच में दिल्ली के एक फार्महाउस को जोड़ा था। जिसमें  मीसा भारती और उनके पति का संबंध पाए गए थे। दक्षिण दिल्ली के बिजवासन इलाके में पालम  फार्मो के 26 वें फार्महाउस को मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट या पीएमएलए की रोकथाम के तहत प्रावधान किया गया था।

मीसा और उनके पति शैलेश के खिलाफ दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट में इस केस की सुनवाई होगी।

केंद्रीय जांच एजेंसी ने कहा कि यह भारती और श्री कुमार से संबंधित है और “मिशेल पैकर्स एंड प्रिंटर प्राइवेट लिमिटेड” के नाम पर रखी गई है। “प्रवर्तन निदेशालय ने आरोप लगाया है की वर्ष 2008-09 में मनी लॉंडरिंग में शामिल 1.2 करोड़ रुपये का इस्तेमाल करके इसे खरीद गया था।

एजेंसी ने जुलाई में सेल कंपनियों के इस्तेमाल के लिए कई करोड़ रुपए का घोटाला में दो भाइयों सुरेंद्र कुमार जैन और वीरेन्द्र जैन और अन्य लोगों के खिलाफ जाँच के तहत इस स्थान पर और कुछ अन्य लोगों के यहाँ छापा मारा था, तथा जैन बंधुओं को पीएमएलए के तहत प्रवर्तन निदेशालय द्वारा गिरफ्तार किया गया था।

एजेंसी ने एक चार्टर्ड एकाउंटेंट राजेश अग्रवाल को भी गिरफ्तार किया था, जिन्होंने मध्यप्रदेश में जैन बंधुओं को 90 लाख रुपये नकद राशि प्रदान की थी, ताकि शेयर प्रीमियम के रूप में मेसर्स मिशेल पैकर्स एंड प्रिंटर प्राइवेट लिमिटेड में निवेश किया जा सके।

कंपनी, मेसर्स मिशेल पैकर्स एंड प्रिंटर, 25, तुगलक रोड, नई दिल्ली के पते पर भारती द्वारा शेयर खरीदे जाने तक पंजीकृत किए गए थे। यह केवल 2009-10 के दौरान हुआ था, इस पाते को बदलकर 26, पालम फार्म , वीपीओ बिजनेस, नई दिल्ली कर दिया। प्रासंगिक अवधि के दौरान भारती और कुमार कंपनी के निदेशक थे। इस जांच के मामले में दंपति की भी पूछताछ की गई और एजेंसी द्वारा उनके बयान दर्ज किए गए हैं। एजेंसी ने कहा कि जैन बंधु, सीए अग्रवाल और उसका बेटा तथा बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री के दामाद 8 करोड़ की मनी लॉन्डिंग के पीछे महत्वपूर्ण भूमिका निभाए हैं।