भड़काऊ भाषणों के बाद भी 2012 के आंकड़े से नीचे आ गई भाजपा

आईएनएन भारत डेस्क:
अहमदाबाद। गुजरात विधानसभा चुनाव भले ही भाजपा जीत गयी हो और छठी बार सरकार बनाने जा रही हैं। मगर भाजपा ने यह जीत उसके तथाकथित विकास माॅडल से इतर गुजरात में साप्रदायिक माहौल बनाकर, पाकिस्तान का भय और दाढ़ी- टोपी वालों का डर दिखा कर हासिल की है। इन भावनात्मक उकसावे वाले और भड़काऊ भाषणों के बाद भी भाजपा सौ सीटे भी हासिल कर पाने में कामयाब नहीं रही। उसे 2012 की अपेक्षा 16 सीटें गवानी पड़ी। जबकि कांग्रेस ने पहले कि अपेक्षा बढ़िया प्रदर्शन करते हुए अपनी सीटों में इजाफा किया और कांग्रेस ने 77 सीटें जीती हैं।
गौर करनेवाली बात ये हैं कि भाजपा पालनपुर सीट भी हार गई जहाँ देश के पीएम मोदी ने 10 दिसंबर के अपने चुनावी रैली में कहा था कि 6 दिसंबर को पूर्व पीएम मनमोहन सिंह कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर के घर पाकिस्तानी अधिकारियों से डिनर पर मिले थे। इस बात की खबर मीडिया में आई हैं। मोदी ने कहा था कि यह मीटिंग 3 घंटे तक चली थी। इसके अगले दिन कांग्रेस नेता ने मोदी को नीच कहा था। पीएम ने कहा, ”दूसरी ओर पाकिस्तानी लोग अय्यर के घर मीटिंग करते हैं। इसके बाद गुजरात के पिछड़े, गरीब लोग और मोदी का अपमान किया जाता है।
इतना ही नहीं भाजपा नेता शैलेष सोट्टा भी भड़काऊ भाषण देते हुए दाढ़ी-टोपी वालों को अपने जनसभा में डराते नजर आए थे। जिसकी वीडियों वायरल भी हुई थी। शैलेष सोट्टा ने आगे कहा कि 10 प्रतिशत वाले के लिए मैं खुद को नहीं रोक सकता। कल एक मीटिंग हुई थी और मुझसे किसी ने कहा कि एक तडीपर ने कहा कि उसे बीजेपी प्रत्याशी से डर लगता हैं। मैं यही सुनिश्चित करने आया हूं कि वे डरे रहें। मैं यहां डरने नहीं, बल्कि डराने आया हूँ। उन्हें आंख उठाने और बोलने की इजाजत नहीं होनी चाहिए वर्ना हम निपट लेंगे।
इतने खौफ पैदा करने वाले और भड़काऊ भाषण के बावजूद भी पालनपुर सीट से कांग्रेस के महेश कुमार अमृतलाल पटेल ने बीजेपी के लालजीभाई पटेल को 17, 593 वोटों से हरा दिया। कांग्रेस को 91, 512 वोट मिले वही भाजपा को 73, 919 वोट प्राप्त हुए।