मोदी की सभा में कुर्सियां खाली मैदान साफ

आइएनएन भारत डेस्क
गुजरात चुनावों में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के अलावा भाजपा के पास कोई तुरूप का पत्ता नही है, परंतु ऐसा पहली बार हो रहा है कि भाजपा का यह तुरूप का इक्का बार बार पिट रहा है। गुजरात चुनावों में मोदी की सभाओं से लगातार गायब होती भीड़ प्रदेश में भाजपा के होने वाली दुगर्ति की खबर बन रही है। हाल ही में मोदी 3 दिसंबर को भरूच में रैली करने गये थे और कमाल की बात यह कि वो खली मैदान और खाली कुर्सिंयों को भाजपा की जीत की अपील करके चले आये।

मोदी की रैली में से लगातार गायब होती भीड़ गुजरात में भाजपा के लिए कोई अच्छे संकेत नही दे रही है। अब इसे भाजपा नेताओं की हिम्मत कहें अथवा उनकी नई राजनीति की विशेषता, उनकी ढिठाई की उनके नेता खाली कुर्सियों और खाली मैदान पर भाषण कर रहे हैं और भाजपा अध्यक्ष खाली कुर्सियों और साफ मैदान के सहारे 150 सीटें जीतने के दावे कर रहे हैं। हालांकि यह पहली बार नही है कि मोदी की सभाओं से लोग गायब हैं अथवा उठकर जा रहे हैं। इससे पहले भी मोदी जब अक्टूबर में गुजरात के चुनावी दौरे पर थे तो भी लोग उनके भाषण शुरू करते ही उठकर जा रहे थे। लगता है कि गुजरात के लोग अब मोदी के चुनावी जुमलों से उब चुके हैं।

ऐसा नही है कि गुजरात के लोगों का नेताओं से मोहभंग हो गया है। क्योंकि जहां मोदी की सभा में से भीड़ भाग रही है तो वहीं हार्दिक पटेल की सभाओं में लाखों की भीड़ उमड़ रही है। भरूच में जब मोदी एक फ्लाॅप राजनीतिक शो कर रहे थे तो वहीं उनसे महज 24 किलोमीटर दूर हार्दिक पटेल सौराष्ट्र में एक ऐसी जनसभा को संबोधित कर रहे थे जिसमें कम से कम दो लाख मौजूद थे। इस रैली की यह विशेषता थी कि हार्दिक ने खुलेआम ना केवल भाजपा को हराने की अपील मतदाताओं से की बल्कि यह भी कहा कि वो अपना वोट एनसीपी, बीएसपी अथवा आप को देकर बर्बाद नही करें। हार्दिक पटेल केवल मतदाताओं से अपील ही नही कर रहे हैं बल्कि वह भाजपा को खुली चुनौती दे रहे हैं और लगातार कह रहे हैं कि गुजरात में वह भाजपा को हरायेंगे और सीना ठोककर हरायेंगे।